breaking news New

आयुष स्वास्थ्य शिविर का आयोजन, 282 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दवा का वितरण

आयुष स्वास्थ्य शिविर का आयोजन, 282 लोगों  का स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दवा का वितरण

 

आयुष विभाग ने लगाया मुख्यालय में जिला स्तरीय आयुष स्वास्थ्य शिविर में 

आयुर्वेद इलाज पध्दति का ज्यादा से ज्यादा प्रचार करें - गफ्फु मेमन

गरियाबंद - शुक्रवार को आयुष विभाग के द्वारा गांधी मैदान में एक दिवसीय जिला स्तरीय आयुष स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में जिलेभर से आए आयुर्वेद एवं होम्योपेथिक के डॉक्टरो द्वारा कुल 282 लोगो के विभिन्न रोगो का स्वास्थ्य परीक्षण कर निशुल्क दवा का वितरण किया गया एवं लोगो को उचित चिकित्सिय सलाह भी दी गई। 

इसके पहले नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन ने भगवान धनवंतरी की पूजा अर्चना कर शिविर का शुभारंभ किया। इस दौरान नपा उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके, पार्षद संदीप सरकार व विमला साहू भी मौजुद थे। शिविर में नपा अध्यक्ष अब्दुल गफ्फार मेमन ने कहा कि आज भी लोग एलोपैथिक के जितना ही आयुर्वेद एवं होम्योपैथिक इलाज में भरोसा करते है।


कोरोना काल में भी आयुर्वेद और होम्योपैथिक दवाईयो का उपयोग कर लोग स्वस्थ्य हुए है। विशेषकर इम्युनिटी बढ़ाने और सर्दी जुकाम से बचने इस पध्दति से बना काढ़ा का काफी उपयोगी साबित हुआ।

इस दौरान उन्होने आयुष विभाग से आयुर्वेद और हौम्योपैथिक इलाज के ज्यादा से ज्यादा प्रचार प्रसार करने की अपील की। शिविर में नपा उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके ने कहा कि कई सालो में लोग इन दोनो पध्दति से विभिन्न बीमारियो का इलाज करा रहे है। ग्रामीण के साथ साथ अब शहरी क्षेत्र में भी लोग इस पध्दति से इलाज कराना पसंद कर रहे है। 

इस अवसर पर जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ निकिता ध्रुव ने बताया कि सदियो से आयुर्वेद और होम्योपैथिक पध्दति से इलाज चलता आ रहा है। इस पध्दति से शरीर को किसी प्रकार दुष्प्रभाव नही होता। लंबे समय तक भी इनकी दवाईयो का सेवन कर सकते है। जबकि अंग्रेजी दवाईयो के ज्यादा उपयोग से किडनी, लीवर सहित अन्य अंगो में नुकसान होता है।

उन्होने बताया कि लोग जल्द से जल्द ठीक होना चाहते है इसलिए एलौपेथिक में जाना पसंद करते है लेकिन आयुर्वेद और होम्योपैथिक पध्दति आज भी विश्वसनीय है। ये दवाईया सस्ती ओर सेवन मे भी सुविधाजनक होती है। जिले में भी 32 सरकारी डिस्पेंशरी है जहां ये दवाईया निशुल्क उपलब्ध है। वरिष्ठ चिकित्सक डॉ विनोद ठाकुर ने बताया कि कोरोना महामारी में इम्युनिटी बढ़ाने में इस पध्दति की दवाईया काफी फायदेमंद रही है। 

शिविर प्रभारी राजेन्द्र कन्नौजे ने बताया कि शिविर में वातरोग, गठिया रोग, चर्म रोग, पुरानी खासी सहित कई रोगो की उपचार कर दवाईया वितरित की गई। इस अवसर पर प्रमुख रूप से डॉ मनीष पटेल, डॉ प्रवीण हरवंश, डॉ एश्वर्य साहू, डॉ प्रीति साहू, डॉ अमित शर्मा, डॉ अल्का रागासे, डॉ संगीता कौशिक, डॉ मिथलेश ठाकुर सहित ब्लाक स्तर से आए अन्य डॉक्टर एवं विभागीय कर्मचारी उपस्थित थे।