breaking news New

1 नवंबर से 193 नवनिर्मित गौठानों में होगी गोबर खरीदी, गोधन न्याय योजना का बढ़ेगा दायरा

  1 नवंबर से 193 नवनिर्मित गौठानों में होगी गोबर खरीदी, गोधन न्याय योजना का बढ़ेगा दायरा


सभी 329 ग्राम गौठानों में योजना के क्रियान्वयन के लिए जिला पंचायत सीइओ ने दिए निर्देष

बैकुण्ठपुर !  कोरिया जिले में शासन  की महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना का दायरा और विस्तारित होगा इसके तहत 193 नवनिर्मित ग्राम गोठानों में भी एक नवंबर से गोबरधन की खरीदी प्रारंभ की जाएगी। कलेक्टर कोरिया श्याम धावड़े के निर्देषानुसार गोधन न्याय योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए जिला पंचायत सीइओ ने सभी जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों और कृषि विभाग के साथ बैठक कर तैयारियों की समीक्षा की।

मंगलवार को जिला पंचायत के मंथन कक्ष में सभी नए गौठानों में गोबर खरीदी प्रारंभ कराए जाने के लिए की जा रही आवष्यक तैयारियों पर जिला पंचायत सीइओ श्री कुणाल दुदावत ने गोठानवार समीक्षा की।

अधिकारियों को निर्देशित करते हुए उन्होने कहा कि कोरिया जिले में गोधन न्याय योजना का विस्तार करते हुए पूर्व के 136 ग्राम गोठान के अतिरिक्त अब 193 नए ग्राम गोठानों में भी यह खरीदी 1 नवंबर से प्रारंभ की जा रही है। नए गौठानों में प्रबंधन समितियां अब इस योजना के तहत पशुपालकों से गोबर क्रय कर सकेंगी।

इसके लिए किसानों का पंजीयन ग्राम गौठानों में किया जाए तथा सभी के खातों को ऑनलाइन एप्प में दर्ज कराया जाए। इसके साथ ही ग्राम गौठान समितियों के खातों को भी निकट के सहकारी साख समितियों से मैप कराने की कार्यवाही पूर्ण करें। गोबर खरीदी और खाद निर्माण के सभी विषयों पर विस्तार से जानकारी लेते हुए जिला पंचायत सीइओ ने सभी नए गोठान में 30 अक्टूबर तक आवश्यक तैयारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
       जिला पंचायत के मंथन कक्ष में अधिकारियों की समीक्षा बैठक में टांकों के निर्माण की प्रगति की समीक्षा करते हुए जिला पंचायत सीइओ ने सभी वर्मी टांको का निर्माण आगामी 10 दिवस में पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होने नई ग्राम गौठान समितियों के सदस्यों  को जनपद पंचायतों के माडल गौठानों में भ्रमण कराने के निर्देष देेते हुए कहा कि पषुपालकों से गोबर खरीदी के लिए सभी को पूरी तरह से प्रषिक्षित करा लें। जनपद पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारियों को प्रत्येक ग्राम गौठान समिति के सदस्यों और अध्यक्षों के साथ नियमित बैठक कर उन्हे प्रोत्साहित करने के लिए निर्देषित करते हुए जिला पंचायत सीइओ ने कहा कि प्रत्येक गौठान में खरीद के पष्चात सही सही इंट्री किया जाना अति आवष्यक है, इसके लिए सभी सचिवों को प्रषिक्षित करा लें।

प्रत्येक ग्राम गौठान में एक सुव्यवस्थित बाड़ी निर्माण के लिए उद्यान विभाग को निर्देषित करते हुए उन्होने कहा कि गोधन न्याय योजना के बेहतर क्रियान्वयन में कृषि व उद्यान विभाग की जिम्मेदारी अत्यंत महत्वपूर्ण है। किसानों की आय दुगनी करने के लिए धान के बाद दलहन और तिलहन की फसलों को लगाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कार्ययोजना बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देष देते हुए !

उन्होने कहा कि सभी जनपद पंचायत सीइओ अपने अपनेे जनपदों में राजस्व, कृषि और ग्राम पंचायत सचिवों की संयुक्त बैठक आयोजित करें और किसानों के रिक्त पड़ी भूमि पर उटेरा फसलों की बुआई कराने के लिए अविलंब कार्यवाही करें।

उन्होने किसानों को दूसरी फसल लेने के लिए प्रोत्साहित करने के साथ ही रोका छेका अभियान के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता और मुनादी निरंतर कराने के साथ ही नियम ना मानने वालों पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देष दिए।


       जिला पंचायत सीइओ ने समीक्षा बैठक में उपस्थित तकनीकी टीम को नरवा कार्यों के लाभकारी प्रभाव का आंकलन करने के लिए जलस्तर का मूल्यांकन करने के निर्देष दिए। साथ ही जल जीवन मिशन के कार्यों को पूरा कराने के साथ ही उन सभी कार्यों को ऑनलाइन प्रविष्टि कराने के लिए सूची जिला कार्यालय को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

समीक्षा बैठक में उन्होंने महात्मा गांधी नरेगा के कार्यों की समीक्षा करते हुए वनाधिकार पत्रक धारियों के जमीन को खेती के लायक बनाने के लिए कार्य प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश देते हुए कहा कि एैसे हितग्राहियों के लिए रोजगार के अधिकतम अवसर प्रदान किए जाएं और उनकी आजीविका में सुधार के लिए ज्यादा से ज्यादा कार्यों के प्रस्ताव जिले में भेजें।

गौठान में मत्स्य पालन और रेशम कीट पालन की गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए कार्य प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि सभी चरागाहों में भी नेपियर घास की नियमित सिंचाई कराना सुनिश्चित करें। इसके अतिरिक्त उनहोने महात्मा गांधी नरेगा के अन्य मानक बिंदुओं पर जनपद वार समीक्षा करते हुए ज्यादा से ज्यादा महिलाओं और अनुसूचित जाति और जनजाति के पंजीकृत श्रमिकों को रोजगार देने के निर्देष दिए।

प्रत्येक जनपद पंचायत में कम से कम तीन ग्रामीण कृषि आधारित व्यवसाय प्रारंभ कराने के निर्देष देते हुए उनहोने समूह की महिलाओं को स्वरोजगार की दिषा में आगे बढ़ाने वाले कार्यों में संलग्न कराने के निर्देष दिए।

जिला पंचायत सीइओ ने इस बैठक में स्वच्छ भारत मिषन, आजीविका मिषन और प्रधानमंत्री आवास योजनाओं की समीक्षा कर संबंधित अधिकारियों को आवष्यक निर्देष प्रदान किए। इस समीक्षा बैठक में उपसंचालक कृषि, सहायक संचालक उद्यान, कृषि विज्ञान केंद्र कोरिया, मत्स्य पालन विभाग, रेशम विभाग, कार्यपालन अभियंता ग्रामीण यांत्रिकी सेवा सहित अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत व अन्य जनपद पंचायत स्तरीय अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।