breaking news New

जगह-जगह जब 108 एंबुलेंस ही बीमार है तो कहां से मिले 108 की सेवाएं, जिम्मेदार कौन?

जगह-जगह जब 108 एंबुलेंस ही बीमार है तो कहां से मिले 108 की सेवाएं,  जिम्मेदार कौन?

दंतेवाड़ा, 22 फरवरी। जगह जगह जब 108 एंबुलेंस ही बीमार है जिसके कारण  समय पर मरीजों को नहीं मिल रही स्वास्थ्य सेवाएं। जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीणों के लिए सरकार द्वारा सड़क हादसे व अन्य आपातकालीन सेवाओं के लिए 108 102 के माध्यम से समय पर मरीज को जिला मुख्यालय तक पहुंचाने की सुविधा उपलब्ध कराई है परंतु धरातल पर स्थिति कुछ और ही है।

निजी कंपनी द्वारा चलाई जा रही 108 की सुविधा चरमरा गई है जगह जगह 108 और 102 एंबुलेंस खराब हालत में  दिखाई देती है जिसकी वजह से मरीज को समय पर स्वास्थ सेवा नहीं मिल पा रही है। 

जिला मुख्यालय में 108 में स्टाफ की कमी होने के कारण सड़क हादसे व आपातकालीन सेवाओं में 108 समय पर नहीं पहुंच पाती जिसमें निजी कंपनियों को सुधार लाने की आवश्यकता है।  निजी कंपनी द्वारा एंबुलेंस की लचर व्यवस्था को देखते हुए अब नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीणदुर्घटना व आपातकालीन सेवा के लिए अपने निजी वाहनों में मरीज को जिला अस्पताल तक पहुंचाया जा रहा है। निजी कंपनी की लचर व्यवस्था को देखते हुए जिला प्रशासन ने भी सुगम स्वास्थ्य सेवा में निजी वाहन मालिकों के सहयोग से मरीजों को स्वास्थ्य केंद्र तक लाती है जिसका भुगतान प्रशासन द्वारा निजी वाहन मालिकों को किया जाता है। जिले में समय पर 108 एंबुलेंस नहीं पहुंचने पर कई मामले सामने आए हैं जिसकी वजह से लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है।