breaking news New

सौरभ गांगुली को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- मैं बिल्कुल ठीक हूं और उम्मीद है कि जल्द ही वापसी करूंगा

सौरभ गांगुली को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- मैं बिल्कुल ठीक हूं और उम्मीद है कि जल्द ही वापसी करूंगा

कोलकाता, 7 जनवरी। पूर्व भारतीय कप्तान और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरभ गांगुली को गुरुवार को अस्पताल से छुट्टी मिल गयी।

गांगुली को पिछले शनिवार को दिल का दौरा पड़ने के बाद वुडलैंड्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी एंजियोप्लास्टी की गयी थी।

48 वर्षीय गांगुली ने अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद पत्रकारों से कहा कि वह जल्द ही वापसी करेंगे।

गांगुली ने डॉक्टरों और अस्पताल कर्मचारियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा, “ हम अपनी जान बचाने के लिए अस्पताल आते हैं। यह सच साबित हुआ। मैं वुडलैंड्स अस्पताल और उत्कृष्ट देखभाल के लिए सभी डॉक्टरों को धन्यवाद देता हूं। मैं बिल्कुल ठीक हूं और उम्मीद है कि जल्द ही वापसी करूंगा।”

उनकी पत्नी डोना गांगुली भी मौजूद थीं और दोनों ही कार में अलीपुर से दक्षिण कोलकाता स्थित बेहाला में अपने निवास के लिए रवाना हुए।

वुडलैंड्स अस्पताल की मुख्य कार्यकारी अधिकारी रूपाली बसु ने कहा कि गांगुली को बुधवार को ही अस्पताल से छुट्टी मिलनी थी लेकिन उन्होंने एक दिन और अस्पताल में रहने का फैसला किया था।

वुड्सलैंड अस्पताल की सीईओ रूपाली बसु ने कहा कि पूर्व भारतीय कप्तान के स्वास्थ्य की तीन से चार सप्ताह तक विशेष रूप से निगरानी की जायेगी जिसके मद्देनजर उनके निवास पर एक नर्स को भी नियुक्त किया जायेगा। सुश्री बसु ने कहा कि गांगुली बिलकुल फिट हैं और पूरी तरह ठीक हैं। उन्होंने कहा कि गांगुली की जिन दो अन्य धमनियों में आंशिक तौर पर रुकावट है उसे कभी भी ठीक किया जा सकता है।

गांगुली के लिए विशेष रूप से डॉक्टर संतोषी बसु को नियुक्त किया गया है जो प्रत्येक दिन उनके घर जाकर उनके स्वास्थ्य की जांच करेंगे।

दरअसल, बंगाल टाइगर के नाम से मशहूर 48 वर्षीय गांगुली दक्षिण कोलकाता स्थित बेहाला में अपने निवास में सुबह जिम में वर्कआउट कर रहे थे जहां अचानक सीने में दर्द की शिकायत के बाद वह अचेत हो गए जिसके बाद उन्हें वुडलैंड्स अस्पताल में ले जाकर भर्ती कराया गया था। उन्हें तुरंत अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था जहां एंजियोप्लास्टी कर उनके हृदय की एक धमनी में रुकावट को दूर कर दिया गया। गांगुली का अब घर में ही वुडलैंड्स अस्पताल के डॉक्टरों की निगरानी में इलाज चलेगा।

खिलाड़ी होने के कारण गांगुली को एक दिन में सात से आठ किलोमीटर पैदल चलने की सलाह दी गयी है। उन्हें विशेष रूप से अंड्डे, मछली और फल खाने की सलाह दी गयी है।

प्रसिद्ध कार्डियोलॉजिस्ट डॉ देवी शेट्टी ने मंगलवार को बीसीसीआई अध्यक्ष को क्लीन चिट देते हुए कहा कि वह पहले से बहुत ही बेहतर हैं और अब वह फिर से सामान्य जीवन की ओर लौट सकते हैं, जैसा कि वह पहले थे। अब वह उसी तरह स्वस्थ हैं जब वह केवल 20 वर्ष के थे।

डॉ शेट्टी ने कहा, “ गांगुली को कई बड़ी दिक्कत नहीं है। यह ऐसी दिक्कत है जो ज्यादातर भारतीयों को किसी ना किसी मोड़ पर होती है। उनके दिल को क्षति नहीं पहुंची है और सिर्फ ब्लॉकेज हैं। लेकिन उन्हें सही समय पर अस्पताल ले जाया गया और उन्हें सही इलाज मिला। उनका हृदय बहुत ही मजबूत है। इससे गांगुली के जीवन पर कोई असर नहीं पड़ेगा और वह पहले की तरह सामान्य जीवन जी सकते हैं। वह विमान भी उड़ा सकते हैं।”