breaking news New

छत्तीसगढ़ की सीमा पर फंसे महासमुंद के 18 तीर्थ यात्री, सरकार की प्रवेश अनुमति का कर रहे इन्तजार

छत्तीसगढ़ की सीमा पर फंसे महासमुंद के 18 तीर्थ यात्री, सरकार की प्रवेश अनुमति का कर रहे इन्तजार


महासमुंद।  लॉक डाउन  में  महासमुंद के 18 तीर्थ यात्री फंस गए है  छत्तीसगढ़  सरकार  से प्रवेश की अनुमति नहीं मिलने के कारण सीमा पर ही रहने को मजबूर है।  महासमुंद के नांदगांव के 18 लोग तिरूपति बालाजी  दर्शन करने गए थे जो लॉक डाउन होने के बाद वहीं फंस गए थे।  सांसद चुन्नीलाल साहू ने इन लोगों को वापस लाने के लिए आंध्रप्रदेश और ओडिशा के प्रशासन से मदद मांगी।  किसी तरह इनको सड़क के रास्ते छत्तीसगढ़ की सीमा तक लाया गया। 

इन तीर्थ एकत्रियों को  ओडिशा सीमा पर स्थित जोंक नदी के किनारे टेमरी गांव में काली मंदिर के धर्मशाला में रखा गया है।  आपको बता दें कि कोरोना वायरस के कारण ट्रेन, बस सेवाएं रद्द होने के कारण महासमुंद जिले के नांदगांव पंचायत के 18 लोग तिरूपति में फंस गए थे।  उनकी घर वापसी के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए ग्राम पंचायत ने कलेक्टर और जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई थी, कि 12 मार्च को नांदगांव से तिरूपति बालाजी मंदिर दर्शन करने गए कुल 18 श्रद्धालु तिरुपति में रुके हैं, जिनका ट्रेन रिजर्वेशन घर वापसी के लिए 22 मार्च को निर्धारित था।  लेकिन, लॉक डाउन की वजह से ट्रेन एवं बस रद्द रद होने के कारण वे वहां फंस गए। 

chandra shekhar