breaking news New

निरोगी जीवन के लिए योग आवश्यक

 निरोगी जीवन के लिए योग आवश्यक

कोरबा। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर इस बार सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं हुए। संस्थाओं और संगठनों ने अपने स्तर पर संक्षिप्त आयोजन किये और इस दिवस के महत्व को प्रतिपादित किया। इसी के साथ इस बात पर जोर दिया गया कि निरोगी जीवन के लिए हर किसी को योग अपनाना ही होगा।
सातवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर औपचारिक आयोजन इस बार हुए। वैश्विक महामारी के कारण बड़े आयोजन पर रोग लगी है। इसलिए योग दिवस को सामान्य रूप से करने के साथ सभी को जोड़ा गया। सुबह 6.30 बजे से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकों से योग पर चर्चा की। सरकारी तंत्र के द्वारा इस दिवस का प्रचार-प्रसार किया गया। योग के क्षेत्र में काम करने वाले संगठन पतंजली, गायत्री परिवार, आर्य समाज, आर्ट ऑफ लिविंग, ब्रम्हाकुमारिज के साधकों ने विभिन्न स्थानों पर लोगों को योगाभ्यास कराया। इसके साथ योग और प्राणायाम से होने वाले लाभ की जानकारी दी।
कोरबा नगर, बालकोनगर, जमनीपाली, दर्री, कुसमुण्डा, दीपका, हरदीबाजार, पाली, कटघोरा, बांकीमोंगरा सहित अंचल में शैक्षणिक, सामाजिक और अन्य संगठनों से जुड़े लोग विश्व योग दिवस के प्रतिभागी बने। लोगों ने अपने घरों, संस्थानों और सार्वजनिक परिसर में योगाभ्यास किया। यहां पर लोगों को प्रशिक्षकों ने अच्छी जीवन शैली के लिए योग और प्राणायम की आवश्यकता बताई।
विश्व को योग देने का काम भारत ने सदियों पहले किया है। लेकिन योग को सरलीकृत रूप में जन-जन तक पहुंचाने का काम बीते कुछ वर्षों में हुआ है। भारत सरकार ने योग के क्षेत्र में हो रहे काम को लेकर बीते वर्षों में बड़े स्तर पर पहल की थी। अधिकांश देशों ने इसे स्वीकृत किया और उक्तानुसार 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाना तय किया गया।