breaking news New

डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में विगत एक साल में 410 मामलों का निराकरण | साढ़े छः माह में छत्तीसगढ़ में 62 जन-सुनवाई में 1 हजार 401 मामलों की सुनवाई में 34.4 प्रतिशत मामले पूरी तरह नस्तीबद्ध

डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में विगत एक साल में 410 मामलों का निराकरण |  साढ़े छः माह में छत्तीसगढ़ में 62 जन-सुनवाई में 1 हजार 401 मामलों की सुनवाई में 34.4 प्रतिशत मामले पूरी तरह नस्तीबद्ध


डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में विगत एक साल में 410 मामलों का निराकरण |

साढ़े छःमाह में छत्तीसगढ़ में 62 जन-सुनवाई में 1 हजार 401 मामलों की सुनवाई में 34.4 प्रतिशत मामले पूरी तरह नस्तीबद्ध

 

 जनधारा समाचार |

रायपुर | छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने बतौर अध्यक्ष एक वर्ष का कार्यकाल पूर्ण होने पर आयोग में किये गये उपलब्धियों गिनाया | उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से इस पुरे कार्यकाल में तीन  बार में हुए कुल साढ़े पांच माह का लॉकडाउन में जन-सुनवाई का कार्यक्रम बेहद सफल रहा | लॉकडाउन के दौरान पीड़ित महिलाओं के लिये टेलीफोनिक माध्यम से उनके मामलों में राहत पहुँचाने के साथ अखबारों, समाचारों के माध्यम से स्वतः संज्ञान लेकर भी कई मामलों में कार्यवाही किया गया। इस दौरान महिला आयोग के नव नियुक्त सदस्य अनीता रावटे और अनीता अग्रवाल मौजूद थी |

 

 अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने कहा कि इस एक साल में सम्पूर्ण छत्तीसगढ़ का सघन दौरा किया कर 26 जिलों में जन सुनवाई भी किया गया । इस प्रकार कुल साढ़े छः माह में, 26 जिलों में, कुल 62 जन सुनवाईयां किया गया जिसमें एक हजार 401 प्रकरणों की सुनवाई की गई | इनमें से कुल 410 प्रकरणों (34.4 प्रतिशत) को अंतिम सुनवाई कर पूर्णतः निराकृत कर नस्तीबद्ध किया गया । कई मामलों में उभय पक्षों के बीच समझौता करवाकर आयोग द्वारा उनके सुखी गृहस्थ जीवन की पुनः शुरूआत का प्रयास किया गया। कई प्रकरणों में आयोग की ओर से दोनों पक्षों की निगरानी भी किया जा रहा है। 

 

उन्होंने बताया कि कार्यभार ग्रहण करने के समय 582 मामले पूर्व से लंबित थे। इन प्रकरणों में तीव्र गति से नियमित एवं लगातार जन सुनवाई किये जाने से महिलाओं का विश्वास महिला आयोग के प्रति बढ़ा हैं | न्यायालय पीड़ित अपना प्रकरण ले जाने के स्थान पर  महिलाओं ने आयोग को ज्यादा महत्व दिया | यहाँ पर महिलाओं को किसी भी प्रकार की राशि व्यय और न ही वकील की जरूरत होती हैं, बिना किसी परेशानी के उनके समस्याओं का वैधानिक समाधान भी आयोग में किया जा रहा है। 

 

 महिला आयोग के साढ़े छः माह के कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां में छत्तीसगढ़ सरकार के 2 साल बेमिसाल के अवसर पर 17 दिसंबर 2020 को बी.टी.आई ग्राउंड में एक विशालकाय रंगोली का निर्माण कराया गया था। यह कुल 9 हज़ार100 वर्ग फीट की रंगोली में 132 वर्ग फीट में मुख्यमंत्री के पोस्टर रूपी रंगोली बनाई गई थी। जिसे गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने विश्व रिकॉर्ड के रूप में दर्ज किया गया | राज्य महिला आयोग को इस आशय का प्रमाण पत्र भी जारी किया गया | इसी तरह 31जनवरी 2021 को राष्ट्रीय महिला आयोग ने पूरे भारत के सभी राज्य महिला आयोग की अध्यक्षों की बैठक में सभी से यह पूछा था कि कोरोना काल में सभी आयोगों ने क्या-क्या काम किये ? इस दौरान छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने अपने जन सुनवाई के आंकड़ों के दस्तावेज प्रस्तुत किया था। जिस पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने सबके समक्ष छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की सराहना किया और उन कार्यों के लिये अवॉर्ड से सम्मानित भी किया। इस दौरान अन्य राज्य के महिला अध्यक्षों को छत्तीसगढ़ में किये जा रहे जन सुनवाई से सीख लेने की हिदायत भी दी गई।

 

राज्य महिला आयोग के सहयोग से  27 फरवरी 2021 को महिला बाल विकास विभाग के द्वारा कराये जा रहे सामूहिक विवाह कार्यक्रम में पूरे छत्तीसगढ़ के 3 हज़ार 229 जोड़ों के सामूहिक विवाह की वर्चुअल उपस्थिति थी। जिसे पुनः गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने विश्व रिकॉर्ड में दर्ज कराया गया। 8 मार्च 2021 को महिला दिवस के अवसर पर लॉकडाउन के दौरान पीड़ित महिलाओं को आयोग तक शिकायत आवेदन भेजने और सुनवाई में होने वाली परेशानियों का सरलीकरण करने के उद्देश्य से छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग में व्हाटसपएप कॉल सेंटर के शुरूआत करने का निश्चय किया गया।इस हेतु सारी प्रक्रिया पूर्ण किया जाकर व्हाटसएप कॉल हेतु नं. 90983-82225 लिया गया। मुख्यमंत्री ने महिला आयोग के कार्यों को तेज गति से करने के लिये हर तरह की प्रशासनिक सहयोग देकर महिला आयोग को पूरे देश में सबसे सशक्त आयोग बनाने में अपना विशेष सहयोग एवं आर्शीवाद प्रदान किया।

 

राज्य महिला आयोग ने राष्ट्रीय महिला आयोग के द्वारा दिये गये कार्यक्रम में महिला दिवस का कार्यक्रम बिलकुल ही नये तरीके से मनाया और मेंन फ़ॉर वोमेन कार्यक्रम की थीम पर महिला दिवस का कार्यक्रम में सभी वक्ता पुरूष थे। जिन्होंने अपने जीवन में महिलाओं की भूमिका और महिलाओं के बिना जीवन को असंभव बताया।इन वक्तागणो में प्रदेश के प्रमुख व्यक्ति महाधिवक्ता श्री सतीश चंद्र वर्मा, डीजीपी श्री डी एम अवस्थी, शिक्षाविद जवाहर शूरी शेट्टी और डॉ. देवेन्द्र नायक शामिल थे।इन सभी के वक्तव्यों से अन्य पुरूषों को भी यह मार्गदर्शन और प्रेरणा मिली की हमेशा महिलाओं के प्रति सम्मानजनक प्रेरणा रखनी चाहिये।

 

उन्होंने का कि इस एक साल के कार्यकाल में आयोग द्वारा कुछ प्रमुख निर्णय लिए जिसमे बस्तर की 71 बेटियों को एन एम डी सी ने नौकरी नहीं दिया था, आयोग की सुनवाई के बाद 61 बेटियों को नौकरी मिलना सुनिश्चित हुआ।कोरिया के अपर कलेक्टर के खिलाफ निर्णय लिये गये।अम्बिकापुर में सखी सेंटर की प्रशासिका को हटाया गया।भरण-पोषण के कई मामलों में तीन हजार, सात हजार, दस हजार, चौबीस हजार, पचास हजार, और एक लाख रूपये प्रतिमाह भरण-पोषण के निर्णय लिये गये।शादी का सामान वापसी कई मामलों में कराया गया।बुजुर्ग महिलाओं की सम्पत्ति दिलाने और अभद्र व्यवहार करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की गयी।इसी तरह 11 वर्ष पुराने मामलें में अनुकंपा नियुक्ति दिलाई गई।दो मामलों में डी एन ए टेस्ट का आदेश दिया गया। एक मामले में नार्को टेस्ट का आदेश भी दिया गया और एक मामले में फॉरेंसिक एक्सपर्ट को घटनास्थल की जांच करने के निर्देश दिये गए है।

इस दौरान पहली पत्नी के रहते दूसरी शादी करने पर कई मामलों में कड़ी कार्यवाही किया गया। जगदलपुर में एक ही दिन में 98 मामलों की सुनवाई करने का रिकॉर्ड भी बना गया। यह उदाहरण साल भर के निर्णयों में से कुछ प्रमुख मामलों के है।जिससे यह पता चलता है कि आयोग ने महिलाओं से संबंधित हर प्रकार के मामलों में अपनी कार्यवाही किया है।