breaking news New

ओडिशा के मुख्यमंत्री ने मोदी से चक्रवात से निपटने दीर्घकालिक समाधान की मांग की

ओडिशा के मुख्यमंत्री ने मोदी से चक्रवात से निपटने दीर्घकालिक समाधान की मांग की

भुवनेश्वर, 28 मई । ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चक्रवात से निपटने के लिए राज्य के तटीय क्षेत्रों में एक स्थायी बुनियादी ढांचा शमन, तटीय तूफान संरक्षण योजना और एक आपदा प्रतिरोध शक्ति प्रणाली के लिए सहायता प्रदान करने की मांग की।

श्री पटनायक ने यह मांग आज यहां प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में बीजू पटनायक अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर उनके पहुंचने पर हुई समीक्षा बैठक में की।

विशेष राहत आयुक्त (एसआरसी) प्रदीप जेना ने समीक्षा बैठक के बाद संवाददताओं से कहा कि राज्य सरकार ने चक्रवाती तूफान यास से प्रभावित इलाकों में बहाली के कार्य के लिए किसी तरह की विशेष सहायता की मांग नहीं की है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के चक्रवात पर पावरपॉइंट प्रेजेंटेशन देने से पहले आठ मिनट का वीडियो प्रेजेंटेशन दिया गया। श्री जेना ने कहा कि चक्रवाती तूफान यास ने कई गांवों को जलमग्न कर दिया है और मुख्यमंत्री ने चक्रवात को कम करने के लिए एक दीर्घकालिक समाधान और तटीय तूफान सुरक्षा योजना की मांग की।

श्री पटनायक ने तटीय क्षेत्र में उच्च प्रौद्योगिकी और भूमिगत केबल सिस्टम शुरू करने के लिए केंद्र से सहायता मांगी। उन्होेंने कहा कि यहां हर साल नियमित अंतराल पर बार-बार चक्रवात तूफान का सामना करना पड़ता है। एसआरसी ने कहा प्रधानमंत्री के समक्ष चक्रवती तूफान से हुए नुकसान का अनुमान रखा गया और प्रधानमंत्री को अवगत कराया गया कि तूफान से हुए नुकसान की पूरी रिपोर्ट एक सप्ताह के अंतर्गत भेजी जाएगी।

श्री जेना ने कहा कि राज्य सरकार ने केन्द्र से तत्काल कोई सहायता नहीं मांगी क्योंकि सरकार के पास चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में तत्काल बहाली कार्य के लिए पर्याप्त धन है। केन्द्रीय मंत्री प्रताप सारंगी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में कोई विशेष सहायता की मांग नहीं की है। उन्होंने हालांकि ऐसे संकेत दिया कि प्रधानमंत्री चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद शाम को राज्य के लिए कुछ न कुछ पैकेज की घोषणा करेंगे।

श्री मोदी समीक्षा बैठक के बाद बालासोर, भद्रक और केंद्रपाड़ा जिलों के हवाई सर्वेक्षण के लिए रवाना हुए, जो चक्रवाती तूफान यास से बुरी तरह प्रभावित हुए है। चक्रवाती तूफान 26 मई की सुबह बालासोर तट के तट पर टकराया था।

प्रधानमंत्री ओडिशा के चक्रवाती तूफान से प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद पश्चिम बंगाल को दौरा करेंगे जहां वह एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करेंगे और तूफान यास से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे।