breaking news New

संयुक्त शिक्षक संघ जिला बस्तर ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, महँगाई भत्ता, सहित एरियर्स की मांग

संयुक्त शिक्षक संघ जिला बस्तर ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन, महँगाई भत्ता, सहित एरियर्स की मांग


छत्तीसगढ़ प्रदेश संयुक्त शिक्षक संघ के प्रांतीय आवहान पर जिला अध्यक्ष शैलेन्द्र तिवारी के नेतृत्व  केंद्र के समान 28% महंगाई भत्ता व एरियर्स की मांग को लेकर आज 19 जुलाई को कलेक्टर बस्तर की अनुपस्थिति में डिप्टी कलेक्टर सुश्री गीता रायस्थ जी को छत्तीसगढ़ प्रदेश संयुक्त शिक्षक संघ द्वारा मुख्यमंत्री एवं प्रमुख सचिव के नाम ज्ञापन सौंपा गया जिला अध्यक्ष शैलेन्द्र तिवारी ने बताया कि राज्य के शिक्षक व अन्य समस्त विभाग के कर्मचारी अधिकारी व पेंशनर्स का वर्ष 2019 से महंगाई भत्ता अप्राप्त है इस कोरोना काल मे शिक्षा व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी लगातार अपनी जान जोखिम में डालकर कोरोना वारियर्स बनकर अपनी सेवाएं देते आ रहे हैं वर्तमान में 2019 से राज्य के कर्मचारियों को 12% की दर से महंगाई भत्ता प्राप्त हो रहा है जबकि केंद्रीय कर्मचारियों को 17% की दर से प्राप्त हो रहा था गत दिवस केंद्र सरकार द्वारा जनवरी 2020 से देय 4%,जुलाई 2020 से 3%, जनवरी 2021 से 4% को एक मुश्त 11% की दर से एक जुलाई 2021 से देने की घोषणा की है जिससे केंद्रीय कर्मचारियों का कुल महंगाई भत्ता 28% हो जाएगा।छत्तीसगढ़ राज्य के कर्मचारियों का 2019 से बकाया 5% जोड़कर 16% महंगाई भत्ता लंबित हो जाएगा जिला अध्यक्ष शैलेन्द्र तिवारी ने बताया कि कोरोना काल की  विकट परिस्थितियों में समस्त विभाग के कर्मचारियों ने सरकार के कंधे से कंधा मिलाकर कार्य किया है उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मांग की है कि कर्मचारियों को 28% महंगाई भत्ता देने की घोषणा करें। आज के ज्ञापन कार्यक्रम में प्रमुख रूप से संघ के प्रदेश सँयुक्त सचिव महेन्द्र सिंह ठाकुर, प्रांतीय संगठन सचिव राहुल सिंह ठाकुर,संभागीय अध्यक्ष शिवराज सिंह ठाकुर, महिला प्रकोष्ट जिला अध्यक्ष,नीलम सोरी, ब्लॉक अध्यक्ष लोहण्डीगुड़ा धनसाय नाग, बस्तर रविन्द्र सिंह ठाकुर, जगदलपुर,अविनाश दास, तोकापाल हरदास सांडिल्य, सोसल मीडिया प्रभारी खेतीमल दीवान योगेश हरदाहे,हरेन्द्र सिंह ठाकुर, लखे राम बिसाई, कृष्ना ठाकुर,लच्छिन नाग, दिलेश्वर साहू,श्रीमती प्रवीणा पाल,राबिया कुरैशी, साइना जिलान, मोना जानी,ललिता चन्द्रा कश्यप, चेतेन्द्र प्रसाद पाणिग्रही, निलधर पाढे, सहित और अन्य साथी उपस्थित रहे।