breaking news New

डॉक्टर पति और 70 वर्षीय सास-ससुर गिरफतार, महिला ने आत्महत्या से पहले लिखा 18 पन्नों का सुसाइड नोट, दहेज प्रताड़ना और अप्राकृतिक कृत्य का आरोप

डॉक्टर पति और 70 वर्षीय सास-ससुर गिरफतार, महिला ने आत्महत्या से पहले लिखा 18 पन्नों का सुसाइड नोट, दहेज प्रताड़ना और अप्राकृतिक कृत्य का आरोप

गुजरात. अहमदाबाद में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। यहां एक 42 वर्षीय महिला ने कथित तौर पर अपने डॉक्टर पति और उसके माता-पिता पर आत्महत्या के लिए उकसाने का आरोप लगाया है। महिला ने जहर खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। महिला ने आत्महत्या से पहले 18 पन्नों का सुसाइड नोट छोड़ा था, जिसमें अपने पति और सास-ससुर पर कई आरोप लगाए हैं। मृत महिला द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट के आधार पर पुलिस ने रविवार को महिला के पति समेत सास-ससुर को गिरफ्तार कर लिया है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, महिला ने 18 पन्नों के सुसाइड नोट में अपने पति के खिलाफ बेहद चौंकाने वाला आरोप लगाया है, जिसे महिला के शव को कब्जे में लेने के समय उसके पास से ही पुलिस ने बरामद किया है। मृतक महिला की पहचान हर्षा पटेल के रूप में की गई है। रिपोर्ट की मानें तो अहमदाबाद के घाटलोदिया इलाके में रहने वाले डॉ. हितेंद्र पटेल (47) और हर्षा की शादी अगस्त 2020 में हुई थी। दोनों एक वैवाहिक पोर्टल के माध्यम से संपर्क में आए थे। हर्षा ने 9 फरवरी को हितेंद्र के घर के बाहर आत्महत्या कर ली थी।

हर्षा ने अपने सुसाइड नोट में आरोप लगाया कि हितेंद्र और उसके माता-पिता ने शादी के कुछ समय बाद से ही उसे परेशान करना शुरू कर दिया था। हितेंद्र के माता-पिता ने उनकी दहेज की इच्छाओं को पूरा नहीं करने के लिए कथित रूप से ताना मारा करते थे। जब उसने हितेंद्र से उसके माता-पिता द्वारा उसके साथ की गई बदसलूकी की शिकायत की, तो उसने कथित तौर पर उसकी पिटाई की।

रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि 18 पन्नों के सुसाइड नोट में हर्षा ने आरोप लगाया है कि हितेंद्र का यौन संबंध को लेकर व्यवहार इतना क्रुर था कि वह यौन संबंध बनाते समय अक्सर अप्राकृतिक व खतरनाक तरीके अपनाता था। अपने सुसाइड नोट में महिला ने लिखा है कि हितेंद्र एक डॉक्टर हैं, ऐसे में वह मुझे अक्सर नशे की दवा देकर आधा बेहोश कर देता था और फिर मेरे अचेत की अवस्था में रहते ही वह मेरे साथ जबरन और अप्राकृतिक यौन संबंध एक तरह से जबरदस्ती करता था।

वहीं हर्षा के पिता ने नानाजी पटेल ने कहा कि उनकी बेटी हर्षा अपने पति हितेंद्र से पिछले साल दिसंबर से ही अलग रह रही थी। वह अपने पिता के घर में ही आकर रह रही थी। मंगलवार को, वह हितेंद्र के घर गई, जहां उसने कथित तौर पर इस तरह का दुखद कदम उठाया।

हर्षा ने देवम अस्पताल में अपने पति हितेंद्र से मिलने के बाद जहर खा लिया और उसके बाद उसे सोला के सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने इलाज के दौरान उसे मृत घोषित कर दिया। हितेंद्र पेशे से अहमदाबाद के एक अस्पताल में आर्थोपेडिक सर्जन हैं। पुलिस ने हितेंद्र, उसके पिता मनु पटेल (71) और माता सुभद्रा पटेल (69) को आत्महत्या के लिए  उकसाने और अन्य संबंधित धाराओं के तहत गिरफ्तार कर लिया है।