breaking news New

राजीव गांधी किसान न्याय योजना से कृषि क्षेत्र में आएगा क्रांतिकारी परिवर्तन - कांग्रेस

राजीव गांधी किसान न्याय योजना से कृषि क्षेत्र में आएगा क्रांतिकारी परिवर्तन  - कांग्रेस

मोदी और भाजपा छग की भूपेश सरकार से सीखें किसानों की मदद कैसे की जाती है -मोहन मरकाम
रायपुर । कांग्रेस ने न्याय योजना का स्वागत किया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने  कहा कि  राजीव गांधी किसान न्याय योजना से छग के कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी परिवर्तन आएगा। संकट और महामारी के समय  न्याय योजना के दूसरे वर्ष की पहली किस्त के रूप में किसानों के खातों में 1500 करोड़ रु सीधे भेज कर मुख्य मंत्री भूपेश बघेल ने यह बता दिया उनकी सरकार की पहली  प्राथमिकता राज्य की खेती किसानी थी और रहेगी। भारतीय जनता पार्टी और मोदी को छग के मुख्यमंत्री से सीखना चाहिए कि किसानों की मदद कैसे की जाती है।एक तरफ तो मोदी सरकार खेती में लगने वाले उर्वरकों के दाम बढ़ाने की कवायद में लगी थी ।उर्वरकों की बोरियों में बढ़े दाम प्रिंट करवा दिए गए थे विरोध के दाम मूल्यवृद्धि के कदम पीछे खींचा दूसरी ओर छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार किसानों को समृद्ध बनाने उनको प्रति एकड़ की अतिरिक्त सहायता दे रही है।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के किसान विरोधी चरित्र की उपज है राजीव गांधी किसान न्याय योजना। भाजपा की केंद्र सरकार धान की कीमत  किसानों को 2500 रु देने में रोक लगा कर रखी है । किसानों को घोषित समर्थन मूल्य से अतिरिक्त सहायता देने की मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के जुनून और कांग्रेस प्रतिबद्धता ने न्याय योजना के माध्यम से प्रति एकड़ की राशि देने का निश्चय किया पहले वर्ष में 5700 करोड़ की चार किश्त के बाद इस वर्ष 1500 की पहली किस्त दी गयी।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि धान उत्पादक किसानों को अंतर राशि 9000 रु की इनपुट सब्सिडी के साथ वैकल्पिक खेती कोदो कुटकी रागी ,दलहन तिलहन उत्पादक किसानों को 10000 रु प्रति एकड़ की सहायता से तथा फलदार वृक्ष लगाने वाले किसानों को भी 10000 की सहायता के प्रावधान से छत्तीसगढ़ के किसान निश्चित तौर पर एक लाभदायक फसल चक्र की ओर अग्रसर होंगे।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कहा कि किसी सरकार और राजनैतिक दल के द्वारा अपने चुनावी वायदे को पूरा करने का जुनून मुख्यमंत्री भूपेशबघेल ने दिखाया उनके पास तार्किक ठोस बहाना था केंद्र समर्थन मूल्य से जादा धान की कीमत नही देने दे रहा इसलिए हम मजबूरी में धान की कीमत 2500 नही दे पा रहे  लेकिन किसान पुत्र भूपेशबघेल को किसानों के साथ यह वायदा खिलाफी मंजूर नही थी उन्होंने न सिर्फ पूरी शिद्दत से अपने चुनावी वायदे को निभाने के लिए प्रयत्न किए धान 2500 में भले नही खरीद पाए लेकिन  राजीव गांधी किसान न्याय योजना के रूप में  प्रदेश में किसानी करने वाले सभी किसानों को सहायता देने की अभिनव योजना शुरू कर उसे लगातार दूसरे वर्ष भी क्रियान्वित भी कर रहे।