breaking news New

सीएसपी सिदार बने 'बुलेट राजा'

सीएसपी सिदार बने 'बुलेट राजा'

तंग गलियों से निबटने जीप छोड़कर बुलेट पर आए अफसर,  अपराध रोकना पहली प्राथमिकता

विनोद (विभूति) कुमार

जगदलपुर, 24 दिसंबर। फिल्म शोले हो या फिर मुकद्दर का सिंकदर, 70 के दशक में बुलेट पर सवार हीरो, गुजरे जमाने में एक फैशन हुआ करता था. ये अलग बात है कि उस जमाने में बुलेट हर कोई इस्तेमाल नहीं करता था लेकिन फिल्मों की शान जरूर हुआ करती थी. आमतौर पर गांव देहात में या किसी धनाढय इक्का दुक्का लोगों के पास बुलेट दिख जाया करती थी लेकिन बदलते जमाने के बीच बुलेट का स्टाईल बदलने के साथ ही अब चलन और टशन में शामिल हो गयी है बुलेट. इसी बुलेट में सवार हो कर शहर में घूमते हैं एक शहर पुलिस अधीक्षक.

ये किसी फिल्म की स्टोरी नहीं बल्कि हकीकत है और उसके पीछे की वजह भी कुछ और हैं. दरअसल इन दिनों जगदलपुर शहर के गली मुहल्लों से लेकर शहर की सडकों में हेलमेट लगाए सीएसपी हेमराज सिदार बुलेट में घूमते हुए नजर आते हैं। यूं तो शहर पुलिस अधीक्षक को बोलेरों वाहन जो नियमों में हैं वह सब उपलब्ध है. फिर ऐसी क्या वजह है कि सीएसपी बुलेट में घूमते हैं तो अब वजह भी जान लीजिए.



जगदलपुर शहर में बढते अपराधों में अकुंश लगाने अब पुलिस एक नया प्रयोग करने जा रही है. इस प्रयोग के जरिए शहर पुलिस अधीक्षक अपने चौपहिया वाहन में घूमने के बजाए मोटर साइकिल में बैठकर शहर की निगरानी करते हुए दिखाई देते हैं और अपराध को रोकने की दिशा में काम कर रहेगें. शहर की तंग गलियों में पुलिस के चौपहिया वाहन पहुंच नहीं सकते हैं. इन्हीं सब बातों का ख्याल करते हुए शहर पुलिस अधीक्षक हेमराज सिदार अब अपने चौपहिया वाहन को छोड़कर बुलेट सी एस पी के रूप में शहर में नजर आ रहे है.



बीते सोमवार को उन्होंने इस प्रयोग की शुरूआत करते हुए कोतवाली टी आई एमन साहू के साथ बुलेट में सवारी करने वाले सी एस पी शहर के उन तंग गलियों में गए जहां पर चौपहिया वाहन की जगह पुलिस को पैदल कई बार क्राइम होने पर पहुंचना पड़ता था. सी एस पी हेमराज सिदार ने आज की जनधारा टीम के स्पेशल रिपोर्टर से बातचीत करते हुए माना कि समय समय पर बुलेट से गली में कोतवाली के स्टाफ के साथ वे स्वयं मोटर साइकिल की सवारी कर लोगों तक पहुंचेगें. उनकी समस्याए सुनेगें और अपराधिक गतिविधियों पर अकुंश लगाने का प्रयास करेगें. बकायदा यातायात नियमों पालन करते हुए शहर पुलिस अधीक्षक हेलमेट पहनकर कोतवाली टी आई के साथ शहर के कई गली मुहल्लों में पहुंचे और लोगों से वहां से समस्याओं के बारें में जानकारी ली।