breaking news New

परिवहन के अभाव में सुखत से हो रही,सोसायटी को नुकसान-रँजना साहू

परिवहन के अभाव में सुखत से हो रही,सोसायटी को नुकसान-रँजना साहू

खरीदी केंद्रों से अतिशीघ उठाया जावे धान- राजेंद्र शर्मा

धमतरी। राज्य सरकार द्वारा धान खरीदी 10 दिन पूर्व ही समाप्त हो चुकी है, सोसाइटी में बिक्री पश्चात  रखे हुए  धान मे जगह के अभाव में मेगाजाम की स्थिति निर्मित हो गई है, फेडरेशन का ध्यान निरंतर सहकारी समिति के जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी, जनप्रतिनिधि आकृष्ट कराते आ रहे हैं, लेकिन प्रक्रियागत कारणों से उठाव की गति काफी धीमी बनी हुई है, जिसके लिए विधायक रँजना साहू द्वारा निरंतर जिम्मेदार लोगों का ध्यान आकृष्ट कराया जा रहा है।

उन्होंने इस और इंगित करते हुए कहा है कि सहकारी समितियां सुचारू रूप से धान खरीदी की बुनियाद होती है, समय-समय पर अनेक नियम कायदों के जटिल बन्धन के कारण सोसाइटी के संचालक मंडल तथा कर्मचारी गण पहले ही बहुत परेशान हुए हैं, ऐसे में उठाव में तेजी ना आने के कारण धान में सुखत आता है जिससे वजन मे , कमी आ जाने के कारण समितियों को अतिरिक्त आर्थिक बोझ से नुकसान होने की पूर्ण संभावना रहती है।

इसलिए धान उठाव के लिए परिवहन किए जाने की समय सीमा निर्धारित किया जाना अतिआवश्यक है, समयावधि में उठाव ना पाने पर इसकी जिम्मेदारी भी तय होने जाने से सहकारिता के क्षेत्र में काम कर  उसे  समृद्ध करने के लिए सेवा देने वाले सहकारी समिति व्यवसायिक लाभ की स्थिति में आने से किसानों को  सहूलियत प्रदान करने में आगे आ सकते हैं।

वही पूर्व सहकारिता प्रतिनिधि राजेंद्र शर्मा ने कहा है कि गर्मी का फसल लग चुका है, धान के उठाव के अभाव में अभी तक वहां के कर्मचारी खरीदी के कार्य से ही मुक्त नहीं हो पाये है ऐसे में कहीं ना कहीं आगामी गर्मी व उसके बाद के बरसाती फसल में किसानों को सेवा देने के क्षेत्र में सहकारी समिति अपना भूमिका निर्वहन करने में उठाव को बाधा महसूस कर रहे हैं इसलिए अविलंब राहत प्रदान करने के लिए तेज गति से फरवरी के अंतिम सप्ताह तक सभी सोसाइटी प्रांगण को खाली कर दिया जाना उचित होगा।

उक्त मांग करने वाले में पवन साहू हरनारायण साहू, धन्नु जांगड़े, मन्नु लाल यादव, उमेश साहू, गौकरण साहू, गोपाल साहू, अजय साहू, विसउहा साहू, मन्नू ध्रुव, नंदराम ध्रुव, भुनेश्वर साहू, पुनाराम साहू, लोकेश वैष्णव, दीनदयाल, राजेश कुमार, कुंजलाल, केशव साहू, सम्मलित है।