breaking news New

गोबर बेचकर वासुदेव ने प्रारंभ किया खुद का व्यवसाय

गोबर बेचकर वासुदेव ने प्रारंभ किया खुद का व्यवसाय

  रायपुर।  छत्तीसगढ़ सरकार की गोधन न्याय योजना अर्थव्यवथा को एक मजबूत आधार देने के साथ ही आम लोगों के सपनों को भी पूरा कर रही है। इस योजना का लाभ लेकर  किसी ने गाय खरीदी, किसी ने मोटर सायकल तो किसी ने अपनी जीविकापार्जन की गतिविधियों के लिए पैसे जुटाए। कबीरधाम जिले के विकासखण्ड बोड़ला के ग्राम पंचायत सिंघारी निवासी वासुदेव सिंह धुर्वे ने गोधन न्याय योजना के तहत गोबर बेचने के एवज में मिली राशि से अपने घर में ही च्वाइस सेंटर खोलकर अपनी जीविका का स्थायी जरिया बना लिया है। वे बताते हैं कि इससे उनकी हर महीनें करीब 6 से 7 हजार रूपए की अतिरिक्त आमदनी हो जाती है। 

श्री वासुदेव ने बताया कि उनका परिवार सिंघारी गौठान में गोधन न्याय योजना के तहत गोबर का विक्रय योजना के प्रारंभ से ही लगातार कर रहा है। अब-तक उन्हें लगभग 114 क्विंटल गोबर बिक्री से 22,800 रूपए प्राप्त हो चुकी है। उन्होंने बताया कि इस राशि से वे एक कम्प्यूटर सेट क्रय कर अपने घर में च्वाइस सेन्टर का काम संचालित कर रहे हैं। उन्होंने अपने नाम से आईडी भी ली है। पिछले दो ढ़ाई माह से यह कार्य निरंतर चल रहा है। उन्होंने आगे बताया कि च्वाइस सेन्टर के काम का उन्हें पहले  से ही अनुभव था। वह तहसील ऑफिस बोड़ला के लोक सेवा केन्द्र में 150 रूपये रोजी में प्रतिदिन काम भी कर चुका है। वासुदेव ने बताया कि उनका स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद अब वे वर्तमान में आई.टी.आई से कम्प्यूटर का कोर्स भी कर रहे हैं। उन्होंनेे बताया कि भविष्य में उनकी योजना गांव में बड़ी सी दुकान खोलने की हैै और उन्हें पूरा विश्वास है कि गोधन न्याय योजना से उनका यह सपना भी पूरा हो जाएगा।