breaking news New

केन्द्र सरकार ई-कामर्स कंपनियो में हो रही असंवैधानिक गतिविधियां बंद करें - प्रकाश रोहरा

केन्द्र सरकार ई-कामर्स कंपनियो में हो रही असंवैधानिक गतिविधियां बंद करें - प्रकाश रोहरा


ई-कामर्स कंपनी अमेजान के खिलाफ चेम्बर और कैट ने गांधी मैदान में  दिया एक दिवसीय धरना

गरियाबंद - बुधवार को कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स और चेम्बर ऑफ कामर्स के संयुक्त तत्वाधान में भारतीय ई-कामर्स प्लेटफार्म के दुरूप्रयोग बंद करने की सहित अन्य मांगो को लेकर नगर के व्यापारियो ने चेम्बर अध्यक्ष प्रकाश रोहरा के नेतृत्व में स्थानीय गांधी मैदान में एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। इस दौरान व्यापारियो केन्द्र सरकार से ने ई-कामर्स कंपनियो के असंवैधानिक गतिविधियो पर रोक लगाने की मांग की।

इस संबंध में व्यापारियो ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा। इसके अलावा फुटवेयर और टेक्सटाइल की दर 5 से 12 प्रतिशत किए जाने का भी विरोध किया गया।  

इस दौरान चेम्बर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष प्रकाश चंद रोहरा ने बताया कि अमेंजान अमेंजान कंपनी कमीशन के लालच में भारतीय ई-कामर्स प्लेटफार्म का दुरूप्रयोग कर प्रतिबंधित ड्रग्स गांजा जैसे नशीले पदार्थ बेचते पाई गई जिसका खुलासा हाल में ही मध्यप्रदेश की प्रतिभाशाली पुलिस की टीम ने किया है।

इसके अलावा भी ऐसी कई प्रकार की शिकायत मिलते रही है। 20 नवंबर को भी पुलिस ने अमेज़न ई-कॉमर्स पोर्टल के माध्यम से बेचा गया 17 किलो गांजा बरामद किया गया। मामले में अमेजन के कार्यकारी निदेशकों को आरोपी भी बनाया गया है। उन्होने सरकार से मांग की ऐसे कंपनियो के विरूध्द सशक्त से सशक्त कार्यवाही की जाए।

कार्यक्रम में चेम्बर ऑफ कामर्स के मंत्री विनय दासवानी ने कहा कि ई-कॉमर्स कम्पनियों की बड़ी मात्रा में कर चोरी में भी लिप्त हैं और इससे केंद्र और राज्य दोनों सरकारों को जीएसटी राजस्व का भारी नुकसान हुआ है।

इसकी जानकारी होने के बाद भी वित्त मंत्रालय ने चोरी को रोकने कोई कदम नहीं उठाया है। विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियां लगातार एफडीआई नीति और नियमों का उल्लंघन कर रही हैं, हमारी मांग है कि केन्द्र सरकार इसके विरूध्द जल्द से जल्द कार्यवाही करे।

 धरना प्रदर्शन के बाद व्यापारियो ने अनुविभागीय कार्यालय पहुॅच कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम ज्ञापन सौंपा। इस दौरान प्रमुख रूप चेम्बर के संरक्षण ललित पारख, नंदरेश गुप्ता, नीतेश ठक्कर, विकास पारख, सुरेश गुप्ता, उमेश सिंग, कुलदीप खरे, विजय साहू, चित्रसेन साहू, निखिल साहू, रेमंत देवांगन सहित अन्य व्यापारी मौजुद थे।