breaking news New

टिन एज के बच्चों को बाहरी आकर्षक से बचना चाहिए: भारती कुलदीप

टिन एज के बच्चों को बाहरी आकर्षक से बचना चाहिए: भारती कुलदीप

सक्ती। बाल दिवस और  जवाहरलाल नेहरू के पुण्यतिथि के अवसर पर जिला विधिक प्राधिकरण के अध्यक्ष एव जिला न्यायाधीश जगदम्बा रॉय के निर्देश पर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पोरथा में विधिक एव जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान जनलोगों को संबोधित करते हुए व्यवहार न्यायाधीश भारती कुलदीप ने कहा कि बच्चों को देखकर मुझे अपनी बचपन याद आयी। यही गणवेश ऐसी माहौल में हम भी अध्ययन प्राप्त किये।  

कुलदीप ने आगे कहा कि अभी सिर्फ पढ़ाई करने की उम्र है 13से19 वर्ष तक ध्यान का भटकाव होता हैं। ऐसे समय मे बच्चों को बचना चाहिए पढ़ाई का कोई न कोई उद्देश्य होना चाहिए।  ताकि आगे चलकर उद्देश्य की पूर्ति हो सके बच्चे है तो स्कूल की रौनक है अनुशासन में रहे तभी अपना भविष्य उज्जवल हो सकता है।  

पेनल अधिवक्ता गिरधर जायसवाल ने शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि जिस प्रकार जनसंख्या वृद्धि हुई हैं।  नये थाने न्यायालय के साथ नये कानून बनाने की आवश्यकता हुए है।  बच्चों को अपराध से दूर रहना चाहिए  विधिक साक्षरता मेंशार्ट फ़िल्म फेस्टिवल पार्ट3 में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिएन्यायाधीश भारती कुलदीप को छत्तीसगढ़ राज्य ने अवार्ड देकर सम्मानित किया है, वे सचमुच बधाई के पात्र है।  


इस अवसर पर स्कूल के प्राचार्य पी गवेल एव सरपंच श्याम राठौर ने भी शिविर को सम्बोधित किया कार्यक्रम के पूर्व स्कूल के छात्र छात्राओं ने न्यायाधीश भारतीय कुलदीप का फूल माला से बैंड की धुन से स्वागत किया कार्यक्रम के पूर्व छात्र छात्राओं के साथ न्यायाधीश महोदय ने प्रभात फेरी निकाल कर बाल दिवस में बाल संरक्षण का संदेश दिया।