breaking news New

SDM ने की एक नई परंपरा की शुरुआत ,कर्मचारी व आमजनों में खुशी

SDM ने की एक नई परंपरा की शुरुआत ,कर्मचारी व आमजनों में खुशी

संजय सोनी/भानुप्रतापपुर। जितेन्द्र यादव (आईएएस) अधिकारी का एक सराहनीय पहल कि अपने अधीनस्थ अधिकारी-कर्मचारी का समय पर मोटिवेशन करते हुए सेवानिवृत्त होने पर उन्हें ससम्मान विदाई देने की परंपरा कि शुरुवात की गई है। इसी क्रम में जनपद पंचायत के सभागार में महिला एवं बाल विकास विभाग दुर्गुकोंदल में परियोजना अधिकारी रहे सुमन तेता सेवानिवृत्त होने पर उन्हे ससम्मान विदाई दी गई।

मंच संचालन स्वयं जितेन्द्र यादव ने किया। उन्होंने कहा कि मैं एसडीएम के रूप में अपने आप को बच्चे की तरह मानता हूं और आपसे चाहता हूं कि आप हमको आशीर्वाद दे कि हम लोग भी आपकी तरह काम करें। उन्होंने कहा कि काम तो चलता रहेगा लेकिन एक मां के लिए अगर आदमी को समय चाहिए तो उससे बड़ा कोई काम नहीं हो सकता। हमें आशीर्वाद दें कि हम बच्चे हैं,आपसे प्रॉमिस करते हैं कि हम लोग अच्छे से काम करेंगे।


भानुप्रतापपुर अनुभाग के अंतर्गत......

पदस्थ अधिकारी-कर्मचारी व आमजन एसडीएम जितेन्द्र यादव से बहुत खुश व संतुष्ट है क्योंकि उनका हमेशा सहयोग व मार्गदर्शन मिलते आ रहा है। विदाई समारोह के दौरान सुमन तेता ने एसडीएम सर के साथ मिलकर कार्य करने का अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि जब आईएएस अधिकारी मेरे फील्ड में निरीक्षण के लिए पहुंचे थे, तब मैं मैं डरी सहमी थी कि छोटी सी गलती भी आसानी से पकड़ लेंगे पर उन्होंने मेरे कार्यो की सराहना किया। 

मुझे ऐसा नही लगा कि मैं एक आईएएस अधिकारी के साथ काम कर रही हूँ, बल्कि ऐसा महसूस हुआ कि मेरे काम को और भी बेहतरीन ढंग से करने में स्पोट व सहायक है। काम करने का तरीका उनकाअपनापन से काफी प्रोत्साहित हुई। उनके साथ मिलकर आगे और कुपोषण पर काम करने की इच्छा थी पर सेवानिवृत्त व घर परिवार व मां के सेवा करना भी मरी दायित्व है। 

हेमंत ध्रुव ने कहा कि एक प्रशासनिक अधिकारी वही होता है जो तत्काल हमे रिएक्ट करे व उसका रास्ता निकाले। सेवानिवृत्त शासन की एक प्रक्रिया है। हर ब्यक्ति अपने फील्ड में काम करता है,लेकिन आप हर लोगो से हटकर अलग कैसे काम करना है। जिसका आमजन को लाभ मिले दुर्गुकोंदल के अंदरूनी क्षेत्रों मे सुमन तेता लम्बे समय व विकट परिस्थितियों में पूरी ईमानदारी व लगन से कार्य करती रही। 


कांकेर जिले में आज कुपोषण पर कमी आई है। निश्चित ही आगेआपका मार्गदर्शन हमेशा मिलते रहेगा व आपके द्वारा किया गया कार्य से लोग प्रेरित होंगे। एक अधिकारी के पास समय का अभाव रहता है लेकिन एसडीएम सर जो अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के लिए मोटिवेशन कर व उनके लिए समय निकालकर जो यह परंपरा की शुरुवात किये है मैं उन्हें धन्यवाद ज्ञापित करते अन्य अधिकारी कर्मचारी के लिए प्रेरणा लेने की बात कही।

सीईओ विश्वास कुमार ने कहा कि  पदस्थापना, स्थानांतरण व सेवानिवृत्त शासन की एक प्रक्रिया है। मेडम के द्वारा जो काम को लेकर ततपरता है मैं उनसे बहुत कुछ सीखना चाहूंगा वही आशा भी करता हूं कि आगे भी उनका मार्गदर्शन व पथप्रदर्शक के रूप में सहयोग मिलते रहे। एसडीएम सर द्वारा जो कार्य किया जा रहा है मैं भी उनके पीछे रहते कार्य करता रहूंगा।

वीरेन्द्र सिंह ठाकुर ने एसडीएम  कि प्रशंसा करते हुए कहा कि इस सम्मान की पहली हकदार यादव है,सारा देश का क्रिट एक आईएएस अधिकारी में समाहित होता है। ईमानदारी व निष्ठा के साथ प्रशासन के कार्यो में संलिप्तता रहते हुए जनता और अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के प्रति अच्छी सोच हर किसी अधिकारी में नही होता है। उन्होंने आगे कहा कि सुमन तेता को मैं काफी वर्षो से जनता हूँ, इनके परिवार राजनीति होने के बावजूद इन्हें कभी राजनीति अभिमान छू भी नही सका। विपरीत परिस्थितियों में भी केवल ये अपने कार्यो को ईमानदारी से करती रही। दुर्गुकोंदल क्षेत्र के लोग इन्हें हमेशा याद करेंगे। इस अवसर पर समाजसेवी दीपेश चोपड़ा, जनपद पंचायत के कर्मचारी व पत्रकार साथी उपस्थित रहे।