लॉकडाउन - तेलंगाना में प्रवासी मजदूर सड़कों पर उतरे

लॉकडाउन - तेलंगाना में प्रवासी मजदूर सड़कों पर उतरे


हैदराबाद।  तेलंगाना में कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ की रोकथाम के लिए लाॅकडाउन की अवधि 30 अप्रैल तक बढ़ाये जाने के बावजूद बुधवार को बड़ी संख्या में प्रवासी कामगार अपने गृह राज्य आंध्र प्रदेश भेजने की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आये।

मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने संकट की स्थिति से निपटने के लिए पिछले महीने हर प्रवासी मजदूर को 12 किलोग्राम चावल मुफ्त और 500 रुपये नकद देने की घोषणा की। उन्होंने कहा था, “ राज्य सरकार आपको (प्रवासी कामगारों को) राज्य की विकास प्रक्रिया में भागीदार मानती है और आपके प्रवास को सुविधाजनक बनाने के लिए कोई भी राशि खर्च करने को तैयार है। आपको चिंता करने और संकट की इस घड़ी में अपने घर लौटने के बारे में सोचने की जरूरत नहीं है।”

आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले स्थित अपने गृह नगर वापस जाने के लिए कुछ प्रवासियों ने सैकड़ों किलोमीटर की पैदल यात्रा करने जैसे कुछ उपायों को भी अपनाने का प्रयास किया। हबीसिगफुडा और उप्पल के बीच पुलिस ने महिलाओं, युवाओं और बच्चों सहित 100 से अधिक ऐसे कामगारों को रोका जो पैदल ही अपने गृह नगर की ओर चल पड़े थे।

chandra shekhar