breaking news New

ठेका प्रथा खत्म किया जाये ... वीरेंद्र कुमार

ठेका प्रथा खत्म किया जाये ... वीरेंद्र कुमार

भिलाईl भारतीय मजदूर संघ के साथ समस्त श्रम संघ की मांग थी , कि ठेका प्रथा खत्म किया जाये | भारतीय मजदूर संघ ने इसमें पहल की एवं अपने राष्ट्रीय अधिवेशन , जो कि कटक में 7 अप्रेल 2008 में एवं अपने राष्ट्रीय अधिवेशन , कटक में प्रस्ताव पारित कर | भारतीय मजदूर संघ ठेका श्रमिकों की ओर संज्ञान लेगा एवं उनकी चिंता करेगा | ठेका मजदूरों के संगठन बनाएगा , संगठन चलाएगा एवं उनका नेतृत्व खड़ा करेंगा | इस प्रकार भारतीय मजदूर संघ ने संविदा मजदूरों को संघर्ष के माध्यम से शोषण के खिलाफ खड़े होने का मार्ग प्रसस्त किया । उक्त बातें आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य वीरेंद्र कुमार ने कही उन्होंने आगे कहा कि देश की परिस्थिति आज इस प्रकार है , कि देश में आज Working class 93 % है | उक्त 93 % में सविंदा कर्मी ठेका मजदूर 79 % है । इतनी बड़ी work फ़ोर्स को संगठित करना , नेतृत्व देना , नेतृत्व को राष्ट्रीयता का बोध कराना आवश्यक हो गया | यत्र तत्र संगठन बनाये गए , चलाये भी गए और उनको भारतीय मजदूर संघ की कार्यकारणी में माध्यम से मुख्य धारा में सदस्य पदाधिकारी के रूप में समायोजित किया गया । जिससे रचनात्मक संगठन को गति मिली | संघराधन की प्रक्रिया प्रारम्भ हुए , जिसमें कि जिले की जिलाधिकारी एवं श्रम अधिकारीयों की भूमिका प्रमुख रही | जिससे कि ठेका मजदूरों के शोषण की गांठ ढीली पड़ी | रचनात्मक संघर्ष के चलते आज हरियाणा सरकार ने , ये निर्णय लिया कि प्रदेश में ठेका संघ रहेगा परन्तु ठेकेदार नहीं रहेगा | ठेके दार मुक्त प्रदेश हरियाणा प्रदेश , देश का प्रथम प्रदेश की ओर अग्रसर हुआ | इसका प्रारूप भारतीय मजदूर संघ के साथ मिलकर हरियाणा सरकार बनाएगी अभी हरियाणा सरकार ने 2 करोड़ की राशी देकर कौशल विकास निगम बनाने की घोषणा की है | ये निगम शासन द्वारा संचालित होगा | प्रदेश के समस्त ठेका कर्मिक इस निगम के द्वारा संचालित होंगे | प्रदेश के समस्त ठेका कर्मियों ने मुक्त कंठ से हरियाणा सरकार के साहसिक फैसले का सराहना की है । भारतीय मजदूर संघ के अथक प्रयास से हरियाणा सरकार ने पूरे देश के संविदा कर्मी को एक मॉडल प्रदान किया है । यह कि ठेका श्रमिको का इस प्रकार शोषण मुक्त प्रारूप हो सकता है । ठेका श्रमिकों की तीन आवश्यकताए वेतन सुरक्षा , काम की सुरक्षा एवं सामाजिक सुरक्षा तीनो की एक साथ भरपाई होगी | निगम बनाने की बाद उपरोक्त सभी समस्याओं का निस्तारण स्वयमेव हो जायेगा । 

सरकार द्वारा चलाये जा रहे कौशल प्रशिक्षण से मजदूरों की कार्य कुशलता भी बढ़ेगी एवं विभिन्न इंडस्ट्री को जो भी जिस बर्क फोर्स की आवश्यकता होगी , उक्त मजदूरों का संचालन भी उक्त निगम के द्वारा किया जायेगा । भारतीय संविदा मजदूर महासंघ छतीसगढ़ , लोककल्याण करी राज्य छत्तीसगढ़ शासन सरकार से ये मांग करता है कि समस्त छतीसगढ़ के संविदा कर्मी ठेका मजदूरों को शोषण से मुक्ति दिलाने के लिए इस पहल पर प्रभावशाली कदम उठा कर , ठेका श्रमिको को शोषण मुक्त समाज का पथ प्रशस्त करें । इस पत्रकार वार्ता के दौरान अनिल कुमार साहू ,अनिल रेड्डी, अजय रेड्डी मौजूद थे l