breaking news New

मई में कोविड-19 से एयर इंडिया के पांच पायलटों का निधन, वैक्सीन अभियान पर असर- रिपोर्ट

मई में कोविड-19 से एयर इंडिया के पांच पायलटों का निधन, वैक्सीन अभियान पर असर- रिपोर्ट


देश में वैक्सीन अभियान को तेज करने के लिए वैक्सीन की आवाजाही में एयर इंडिया के विमानों की सहायता ली जा रही है. एयर इंडिया के विमान देश के विभिन्न हिस्सों में वैक्सीन को पहुंचाने के लिए दिन-रात लगे हुए हैं. लेकिन बुरी खबर यह है कि एयर इंडिया के पांच अनुभवी और वरिष्ठ पायलटों का कोरोना के कारण निधन हो गया है. इसके कारण वैक्सीनेशन अभियान पर असर पड़ रहा है.


एयर इंडिया के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक मई में कैप्टन प्रसाद कर्माकर, कैप्टन संदीप राणा, कैप्टन अमितेश प्रसाद, कैप्टन जीपीएस गिल और कैप्टन हर्ष तिवारी का कोरोना के कारण निधन हो गया. 37 साल के तिवारी का 30 मई को निधन हो गया. वे Boeing 777 aircraft के फर्स्ट ऑफिसर थे. 


वैक्सीनेशन नहीं होने पर परिचालन ठप करने की धमकी दे चुके हैं पायलट 

एयर इंडिया के पायलटों ने कई बार चालक दल के सदस्यों और उनके परिवारों के लिए वैक्सीन की मांग की है लेकिन उनकी मांग अब तक पूरी नहीं की जा सकी है. 4 मई को पायलटों ने धमकी दी थी कि अगर उनकी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा तो एयरलाइन को बंद कर देंगे. धमकी के बाद एयर इंडिया ने कहा था कि वह अपने कर्मचारियों के लिए मई के अंत तक वैक्सीन की व्यवस्था कर देगी. लेकिन वैक्सीनेशन के तीन कैंपों को इसलिए बंद कर दिया गया क्योंकि वहां वैक्सीन की उपलब्धता नहीं थी. इसके बाद 15 मई से फिर से कैंप लगाए गए. एयर इंडिया पहले 45 की उम्र से अधिक वाले अपने कर्मचारियों को वैक्सीन देने में प्राथमिकता दे रही थी. 


एसोसिएशन ने एयर इंडिया के निदेशक को लिखा पत्र

मंगलवार को Indian Commercial Pilots’ Association (ICPA) ने Air India के निदेश कैप्टन आर एस संधु को लिखे पत्र में कहा है कि पायलटों की टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही हैं, पायलट क्वारंटीन हो रहे हैं और कुछ पायलटों की मौत तक हो रही है. यह स्थिति गंभीर खतरे की ओर संकेत कर रही है. यहां तक कि हमारा परिवार भी कोरोना की चपेट में आ जाते हैं. पत्र में लिखा गया है कि बंदे भारत मिशन के तहत जिन फ्लाइटों का संचालन किया जा रहा है, उन्हें सकुशल लौटाकर जब हम अपने घर लौटते हैं तो इस वायरस के परिवार में संक्रमण होने का सबसे ज्यादा खतरा रहता है. इस कठिन परिस्थिति में परिवार को सेफ रखने के लिए कंपनी की जरूरत है ताकि हम विमानों का संचालन सुचारू रूप से चला सके. इसलिए प्राथमिकता के आधार पर हमारी सुरक्षा सुनिश्चित की जाए.