breaking news New

10 लाख सरकारी नौकरी के आरजेडी के वादे को सीएम नीतीश ने फालतू बताया

 10 लाख सरकारी नौकरी के आरजेडी के वादे को सीएम नीतीश ने फालतू बताया

पटना। बिहार  में दूसरे चरण के लिए 3 नवंबर को वोटिंग होनी है. चुनाव प्रचार थम चूका है। मतदान  से एक दिन पहले सीएम  नीतीश कुमार ने  चुनावी मुद्दों के साथ ही अपनी उपलब्धियों, कोरोना काल में चुनाव प्रचार के अनुभव बताए तो विपक्ष पर हमला भी बोला.

सीएम नीतीश ने राष्ट्रीय जनता दल की ओर से किए गए 10 लाख सरकारी नौकरी के वादे को फालतू बताया. सीएम नीतीश ने कहा कि जनता को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है. इतने पोस्ट हैं ही नहीं तो इतनी नौकरियां देंगे कहां से? कहां से पोस्ट क्रिएट करेंगे. आरजेडी पर हमला बोलते हुए लालू यादव का नाम लिए बगैर सीएम नीतीश ने कहा कि इनके राज में कितनी नौकरियां दी गईं, जनता यह जानती है

सीएम नीतीश ने कहा 1 लाख 44 हजार करोड़ रुपये की जरूरत है. इतने रुपये कहां से लाएंगे? इनको कुछ पता है? इन्हें क-ख-ग का ज्ञान नहीं है. 

उन्होंने कहा कि तब डॉक्टर और व्यापारी भी प्रदेश से चले गए थे. जब 10 लाख नौकरी देने की स्थिति होगी, तभी यह बात कहूंगा. सीएम नीतीश ने रोजगार के क्षेत्र में अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाईं और कहा कि हमारी सरकार ने बहुत लोगों को रोजगार दिया है. लोगों को काम के लिए सहायता दी जा रही है. हर जिले के जिलाधिकारियों को भी इस संबंध में निर्देश दिए गए हैं.

उन्होंने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि जो बेरोजगारी की बात कर रहा है, उसकी सरकार के समय संयुक्त बिहार में 15 साल के दौरान महज 95 हजार लोगों को ही नौकरी मिली थी. यहां कहां रोजगार था. उन्होंने नाराजगी को खारिज करते हुए कहा कि हमारे सुधार करने वाले कार्यों के कारण धंधेबाज नाराज हैं, आम जनता नहीं. सीएम ने कहा कि मुझसे नेताओं को नाराजगी है.