breaking news New

स्थगन आदेश के बाद भी सरकारी जमीन पर बन गया मकान

स्थगन आदेश के बाद भी सरकारी जमीन पर बन गया मकान

चांपा। तहसील के राजस्व क्षेत्र में इन दिनों पहले की अपेक्षा बेजा कब्जा कर सरकारी जमीन हथियाने सहित मकान बनाने पर बेजा कब्जा धारियों का हौसला देखकर राजस्व अधिकारी भी मौन का मिसाल प्रस्तुत कर रहे हैं जिसका ताजा तरीन मामला चांपा क्षेत्र के हनुमान धारा में मुर्गी गोदाम के पास तथाकथित दशरथ कंवर के द्वारा ऐसे ही अनुचित कार्य किया जा रहा है जिसकी शिकायत नगर के जागरूक नागरिक  द्वारा राजस्व अधिकारी को किया गया था जिससे संज्ञान में लेकर सरकारी जमीन पर अवैध निर्माण करने से स्थगन आदेश जारी किया गया था। 

संबंधित अधिकारी द्वारा आदेश जारी कर अपने ही आदेश पर हो रहे निष्क्रियता को लेकर  इतने चुप्पी साधे बैठे हैं कि बेजा कब्जा धारी अब राजस्व अधिकारियों के आदेश को अंगूठा दिखा कर मजाक उड़ाने पर उतर आए हैं यह पहला उदाहरण नहीं है ऐसा कई उदाहरण चांपा राजस्व क्षेत्र में देखने को मिल जाएंगे जहां राजस्व अधिकारियों तक एक नहीं अनेकों बेजा कब्जा की शिकायत जागरूक लोगों के द्वारा की जा चुकी है तहसील स्तरीय अधिकारियों के द्वारा बेजा कब्जा पर महीनों पहले स्थगन आदेश जारी किया गया था और अब वह बेजा कब्जा स्थान मकान बनाकर मुफ्तखोरो ने आशियाना साकार कर आबादी जमीन घोषित कर दे रहे है इससे साफ जाहिर है कि जहां एक ओर राजस्व विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी अपने क्षेत्र में हो रहे बेजा कब्जा को लेकर निष्क्रिय बने बैठे हैं तो वहीं जागरूक लोगों द्वारा शिकायत करने के बाद भी अधिकारी चुप्पी साध ले रहे हैं जो अपने आप में अनगिनत प्रश्न स्वता ही खड़े हो रहे हैं रही बात हनुमानधारा में मुर्गी गोदाम के पास संबंधित व्यक्ति द्वारा मकान बनाए जाने पर प्रतिबंध के उपरांत मकान बना लिया जाना भी राजस्व अधिकारियों के अधिकार क्षेत्र में जबरदस्त दखल से कम नहीं कहा जा सकता आखिरकार बेजा कब्जाधारियों के हौसले इतने बुलंद क्यों हो चले  हंै कि अधिकारियों के द्वारा प्रतिबंध लगाए जाने के बाद भी लोग धड़ल्ले से बेजा कब्जा कर आशियाना तान देने पर उतारू हो रहे हैं 

चांपा तहसील क्षेत्र में अवैध बेजा कब्जा को लेकर कई ऐसे भी मामले देखने सुनने में लगातार सामने आ रहा है जहां जनप्रतिनिधि व जागरूक लोगों द्वारा शिकायत करने के बाद राजस्व अधिकारियों ने खानापूर्ति के लिए कार्यवाही कर आगे निगरानी आदेश पर अमल करना भूल गए जिसका नतीजा यह है कि संबंधित लोग राजस्व विभाग के नाक तले खुजली कर सरेआम बेजा कब्जा पर प्रतिबंध के बाद भी अधूरे निर्माण को पूरा कर गृह प्रवेश का जबरदस्त आयोजन भी किया जा रहा है।