breaking news New

मरवाही वन मंडल के एसडीओ संजय त्रिपाठी को प्रभारी डीएफओ बनाने दो घंटे में बदला आदेश, वन विभाग में कई तरह के चर्चाएँ गर्म

मरवाही वन मंडल के एसडीओ संजय त्रिपाठी को प्रभारी डीएफओ बनाने  दो घंटे में बदला आदेश, वन विभाग में कई तरह के चर्चाएँ गर्म

चमन प्रकाश केयर (कुर्रे)

रायपुर | छत्तीसगढ़ वन विभाग के अरण्य भवन द्वारा जारी एक आदेश को देखकर इन दिनों ऐसा लग रहा मानो सबकुछ ठीक नही चल रहा हैं | हम बात कर रहे हैं मरवाही वन मंडल की जहाँ पर 31 अगस्त को रिटायर्ड हुए आर.के. मिश्रा के स्थान पर प्रधान मुख्य वन सरंक्षक एवं वन बल प्रमुख द्वारा आईएफएस जीतेन्द्र उपाध्याय को मरवाही का वनमंडलाधिकारी बनाने का आदेश महज़ दो ही घंटे हुए थे, कि पीसीसीएफ ने जारी किये गये आदेश को बदलकर  एस डी ओ संजय त्रिपाठी को पेंड्रा वनमंडल मरवाही को डीएफओ बनाने का आदेश जारी कर दिए । इस आदेश को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे है कि आखिर आईएफएस अधिकारी होने के बाद भी एसडीओ को डीएफओ का प्रभार क्यों दिया गया? आखिर दो घंटे में ऐसा क्या हुआ की पीसीसीएफ को अपना ही आदेश बदलना पड़ा? इस तरह से वन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के बीच कई तरह की अफवाहों का बाज़ार गर्म हो गया हैं | लोगो का कहना है की ये सब विभागीय मंत्री के निर्देश के चलते हुआ है ।

 वन विभाग के विश्वसनीय सूत्रों मिली जानकारी के मुताबिक राकेश मिश्रा सेवानिवृत होने के महीने भर पहले से ही एसडीओ संजय त्रिपाठी ने प्रभारी डीएफओ बनने लॉबिंग शुरू कर दिया था। मरवाही रेंज में लंबे समय से जमे त्रिपाठी ने इसके लिए सत्ता पक्ष के नेताओं से सिफारिश भी किया था पर बात नहीं बनी। ऐसे में अंचलिया उपनाम के व्यक्ति ने त्रिपाठी का डीएफओ का प्रभार दिलाने में अहम् भूमिका निभाई है ।

 बताया जाता है कि मरवाही वन मंडल समृद्ध वन क्षेत्र माना जाता है, ऐसी भी जानकारी है कि पूर्व में पदस्थ रहे प्रभारी डीएफओ राकेश मिश्रा ने जमकर वन संसाधनों का दोहन किया था । उन पर करोडो रुपये के भ्रष्टाचार करने के आरोप भी लगे थे। यही हाल एसडीओ संजय त्रिपाठी पर भी भ्रष्टाचार और गड़बड़ी की ढेरो शिकायते होने की जानकारी है। इसकी शिकायत होने पर विभागीय मंत्री मोहम्मद अकबर ने जांच का आदेश भी दिया है, उसके बाद भी पीसीसीएफ ने नियमो को दरकिनार कर संजय त्रिपाठी को डीएफओ का चार्ज दे दिए है। उक्त आदेशों के बारे में जब हमने भारतीय वन सेवा के अधिकारी जितेन्द्र उपाध्याय और एसडीओ संजय त्रिपाठी के मोबाईल नम्बर पर कॉल और मैसेज किया गया तो उक्त अधिकारियों ने ख़बर लिखे जाने तक किसी भी प्रकार से कोई जवाब नही दिया |

 वर्सन,

पूर्व में जितेन्द्र उपाध्याय भारतीय वन सेवा के अधिकारी के नाम से जारी आदेश को इसलिए बदलना पडा कि जितेन्द्र उपाध्याय की तबियत ख़राब है, और उनके द्वारा मरवाही वन मंडल में स्थाई पदस्थापन की मांग की गई थी | जिस पर स्थाई नियुक्ति आदेश मुख्यमंत्री सचिवालय से जारी होती है जो कि वर्तमान समय में यह संभव नही था | इस कारण विभागीय कामकाज प्रभावित नही हो इसके लिए एसडीओ संजय त्रिपाठी को प्रभारी डीएफओ का चार्ज दिए जाने का आदेश दिया गया हैं | वहीं 16 अगस्त से आई एफ एस स्तर के अधिकारी को डीएफओ का चार्ज दिया जायेगा |

 राकेश चतुर्वेदी,

प्रधान मुख्य वन सरंक्षक एवं वन बल प्रमुख