breaking news New

पंजाब में मंडरा रहे राजनीतिक संकट के बादल : कांग्रेस के कलह को समाप्त करने में जुटा आलाकमान, 25 नेता दिल्ली पहुंचे, समिति के समक्ष रखेगें अपना पक्ष

पंजाब में मंडरा रहे राजनीतिक संकट के बादल : कांग्रेस के कलह को समाप्त करने में जुटा आलाकमान,  25 नेता दिल्ली पहुंचे, समिति के समक्ष रखेगें अपना पक्ष

जालंधर । कोरोना महामारी की मार झेल रहे पंजाब में राजनीतिक संकट के बादल मंडरा रहे हैं। अगले साल प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इससे पहले प्रदेश की कांग्रेस सरकार को लेकर पार्टी के नेता ही खासे नाराज चल रहे हैं और ऐसे में आलाकमान को दखल देना पड़ रहा है। आलाकमान ने सभी विधायकों और नेताओं को दिल्ली बुलाया है। मिली जानकारी के मुताबिक पंजाब कांग्रेस के 25 नेता दिल्ली पहुंचे हैं। इनमें प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ भी शामिल हैं। जहां पर वह आलाकमान द्वारा बनाई गई तीन सदस्यीय समिति से मुलाकात करेंगे। इस पैनल की अगुवाई हरीश रावत कर रहे हैं। हरीश रावत के अलावा पैनल में मल्लिकार्जुन खडग़े और जेपी अग्रवाल शामिल हैं।
बताया जा रहा है कि समिति तीन चरणों में बातचीत करेगी। पहले चरण में विधायकों से बात होगी। दूसरे में सांसदों और अंत में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बैठक होगी।
बारी-बारी से विधायक और नेता तीन सदस्यीय समिति से मुलाकात करेंगे और अपनी समस्याओं को समिति के समक्ष रखेंगे। बताया जा रहा है कि समिति ने विधायकों से मिलना शुरू कर दिया है।
मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह खेमे के माने जाने वाले मनप्रीत बादल भी राजधानी दिल्ली पहुंचे हैं और वह समिति से मुलाकात करेंगे। इनके अलावा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़, चरणजीत सिंह चन्नी, सुखजिंदर सिंह रंधावा समेत 25 नेता दिल्ली पहुंचे हैं। जिनसे बारी-बारी से मुलाकात होगी।
उल्लेखनीय है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच में वॉकयुद्ध छिड़ चुका है और चुनावों में इसका गलत प्रभाव न पड़े, इसके लिए आलाकमान ने दखल दिया है। समिति के जरिए आलाकमान प्रदेश सरकार के भीतर के कलह और गुटबाजी को समाप्त करने का प्रयास करेगी। वरिष्ठ नेता हरीश रावत ने कहा था कि हमारा लक्ष्य प्रदेश में कांग्रेस को जमीनी स्तर पर मजबूत करना और विधानसभा चुनावों में सभी को एकजुट करके जीत हासिल करना है।