महापौर पर महिला पार्षद का गंभीर आरोप, '170 पैकेट में निकला गन्दगीयुक्त राशन', मोवा पार्षद पार्षद विश्वादिनी पांडेय ने खुद किया पोस्ट

महापौर पर महिला पार्षद का गंभीर आरोप, '170 पैकेट में निकला गन्दगीयुक्त राशन', मोवा पार्षद पार्षद विश्वादिनी पांडेय ने खुद किया पोस्ट

रायपुर. नगर निगम द्वारा जरूरतमंद को जो राहत पैकेट प्रदान किये जा रहे हैं, उनमें घटिया क्वालिटी का चावल होने की बात सामने आई है। निगम के चावल में गंदगी होने से वह लोगों के क्या जानवरों के खाने लायक नहीं है। हैरानी की बात यह है कि जिला प्रशासन, राइस मिल और सामाजिक संस्थाओं ने मिलकर लॉकडाउन में असहाय लोगों तक राशन पहुंचाने का जिम्मा लिया है साथ ही लाखों रुपए का बजट केंद्र व राज्य सरकार ने भोजन व्यवस्था को मजबूत करने के लिए दिया है उसके बावजूद घटिया क्वालिटी का चावल क्यों दिया जा रहा है। इस घटना का जिक्र स्वयं मोवा-सड्डू की पार्षद विश्वादिनी पांडेय ने किया है।

पार्षदों को जो चावल बांटने को दिया गया, वह महापौर एजाज ढेबर द्वारा दिया गया। राहत पैकेट शीलबन्द होने की वजह से जब भोजन लेने वालों घर जाकर जब पैकेट खोला तो उसमें गन्दगीयुक्त चावल मिला। जिसकी शिकायत लोगों ने पार्षद से की। मोवा की पार्षद विश्वादिनी पांडेय ने बताया की 8 अप्रैल को मेयर के द्वारा उनके क्षेत्र में चावल बांटने को दिया गया। उन्होंने 170 पैकेट मोवा और सड्डू क्षेत्र के लोगों को दिए कुछ देर बाद वही लोग चावल की शिकायत लेकर आए जिसमे राइस की क्वालिटी बहुत ही रद्दी पाई गई। निगम द्वारा राशन को लेकर अनियमितता और लापरवाही लगातार की जा रही है। दैनिक समाचार 'आज की जनधारा' द्वारा कई खबरें इस विषय पर प्रकाशित भी की गईं।

चावल मामले में लग चुके हैं आरोप
महापौर एजाज ढेबर पर हाल ही में चावल को अपने बंगले पर उतरवाने का आरोप लगा था। हालांकि निगम अधिकारियों ने मेयर का निजी चावल बोलकर मामले को दबा दिया था। अब बात यह आती है की कहीं जरूरतमंद को दिए जाने वाले राहतपैकेट में निजी चावल को मिश्रित तो नहीं किया गया। जबकि बात अगर राजधानी की राइस मिलों की करें तो 15 टन से अधिक उच्च क्वालिटी का चावल जिला प्रशासन को दिया गया है। इस तरह निगम के द्वारा घटिया चावल गरीब की थाली में पहुँचना प्रश्नचिन्ह खड़े करते हैं।

जांच की जाएगी

स्मार्ट सिटी परियोजना अधिकारी आशीष मिश्रा ने इस मामले पर चर्चा की और कहा कि चावल में कहीं कहीं गुणवत्ताहीन होने की शिकायत आईं हैं जिनकी जांच की जाएगी। वहीं लोगों तक शुद्ध और साफ चावल दिया जाएगा। वहीं इस मामले पर मोवा पार्षद ने निगम की लापरवाही बताया है। उन्होंने कहा की जरूरतमंद तक इस तरह घटिया क्वालिटी का राशन भेजना गलत है।


राजनीति करना बन्द करो : महापौर एजाज ढेबर

इस मामले पर महापौर एजाज ढेबर ने कहा की विपक्ष द्वारा मुझे निशाना बनाया जा रहा है और इसके चलते मेरे साथ राजनीति की जा रही है। इस तरह की आदत शोभा नहीं देती। मैंने जो चावल भेजा है वह गुणवत्तापूर्ण है।