breaking news New

दिग्विजय सिंह, महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला जैसे नेता तालिबान के साथ

दिग्विजय सिंह, महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला जैसे नेता तालिबान के साथ

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने कहा है कि दिग्विजय सिंह, महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला जैसे नेता तालिबान के साथ हैं। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री ने विपक्षी नेताओं को घेरते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह, फारूक अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती तालिबान के साथ खड़े हैं। क्या वो तालिबान के महिलाओं के प्रति सोच को स्वीकार करते हैं? अगर वो नहीं करते तब उन्हें खुलकर विरोध करना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि मोहन भागवत ने यह नहीं कहा कि महिलाओं को सिर्फ घर संभालना चाहिए। हमारी सरकार में सबसे ज्यादा महिला मंत्री हैं और हम लगातार महिला सशक्तिकरण को लेकर काम कर रहे हैं। यह हमारी प्रथामिकताओं में शुमार है। हम उन्हें बेहतरीन शिक्षा देने पर काम कर रहे हैं। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने दावा किया था कि महिलाओं को लेकर आरएसएस और तालिबान की मानसिकता ऐक जैसी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि, तालिबान कहता है कि महिलाएं मंत्री नहीं बन सकती हैं। मोहन भागवत कहते हैं कि महिलाओं को घर पर रहना चाहिेए और घर का ख्याल रखना चाहिए। क्या दोनों की सोच एक जैसी नहीं है। फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि, तालिबान को मानवाधिकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए और इस्लामी सिद्धांतों का पालन करना चाहिए। इसके साथ ही बाकी दुनिया के साथ अच्छे संबंध बनाने चाहिए। जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि तालिबान एक हकीकत बनकर सामने आ रहा है और उनको चहिए कि पहली बार उनकी जो छवि बनी है वो इंसानों के खिलाफ थी लेकिन अबकी बार वो आए हैं और हुकूमत करना चाहते हैं अफगानिस्तान में तो बाकी जो असली शरिया कहता है, जो हमारे कुरान शरीफ में है। जो बच्चों और औरतों के अधिकार हैं. किस तरह से शासन करना चाहिए जो मदीने का हमारा मॉडल रहा है। तो अगर वो वाकई उसपर अमल करना चाहते हैं तो वो दुनिया के लिए मिसाल बन सकते हैं। अगर वो उसपर अमल करेंगे तभी दुनिया के देश हैं उनके साथ कारोबार कर सकते हैं।