breaking news New

कलेक्टर दासन के नेतृत्व में रायपुर जिले ने किया कमाल, राज्यपाल के हाथों हुए पुरस्कृत, कोरोनाकाल में भी दासन के कार्य सराहे गए थे

कलेक्टर दासन के नेतृत्व में रायपुर जिले ने किया कमाल, राज्यपाल के हाथों हुए पुरस्कृत, कोरोनाकाल में भी दासन के कार्य सराहे गए थे

रायपुर. राज्यपाल अनुसुईया उइके ने आज राजभवन में सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर पर सर्वाधिक धनराशि एकत्रित करने के लिए रायपुर जिले के कलेक्टर, आइएएस डॉ.एस.भारतीदासन को प्रथम पुरस्कार प्रदान किया. दूसरे स्थान पर दुर्ग जिला रहा जिसके कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे ने यह पुरस्कार हासिल किया. श्री दासन ने अपनी श्रेष्ठ प्रशासनिक क्षमता के बल पर कई बार प्रशंसनीय कार्य​​ किए और परिणाम भी दिए. कोरोनाकाल में भी सीएम सहित कई मंत्रियों, चेम्बर आफ कॉमर्स सहित कई संगठनों ने उनके लिए फैसले, क्रियान्वयन और परिणामों की खासी प्रशंसा की थी.

इस अवसर पर मुख्य सचिव आरपी मंडल, छत्तीसगढ़ ओडिशा सब एरिया के कमांडर ब्रिगेडियर प्रशांत चौहान, समिति के पदेन सदस्य के रूप में अपर मुख्य सचिव वित्त अमिताभ जैन, अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू और राज्यपाल के सचिव अमृत कुमार खलखो उपस्थित थे.

इसके पहले राज्यपाल राज्य सैनिक बोर्ड की अमलगेटेड स्पेशल फंड के राज्य प्रबंधन समिति की ऑनलाइन बैठक में शामिल हुई। उन्होंने वर्ष 2017 और 2018 सर्वाधिक धनराशि एकत्रित करने वाले रायपुर और दुर्ग जिले के कलेक्टर को गवर्नर ट्राफी से सम्मानित किया। राज्यपाल ने वर्ष 2018 में सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर पर सर्वाधिक धनराशि एकत्रित करने के लिए रायपुर जिले के कलेक्टर डॉ.एस.भारतीदासन को प्रथम पुरस्कार और दुर्ग कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे को दूसरा पुरस्कार दिया। इसी तरह उन्होंने वर्ष 2017 में सर्वाधिक धनराशि एकत्रित करने के लिए दुर्ग कलेक्टर डॉ.सर्वेश्वर नरेन्द्र भूरे को प्रथम पुरस्कार और रायपुर जिले के कलेक्टर डॉ.एस.भारतीदासन को दूसरा पुरस्कार दिया गया।