breaking news New

संवेदनशीलता के साथ योजनाओं का सकारात्मक क्रियान्वयन करें - कलेक्टर

संवेदनशीलता के साथ योजनाओं का सकारात्मक क्रियान्वयन करें - कलेक्टर


समय सीमा बैठक में लंबित प्रकरणों के निराकरण और योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की 

     सक्ती /जांजगीर चांपा, 15 जून। मंगलवार को कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला ने आज जिला कार्यालय के सभाकक्ष में जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर विभागीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। कलेक्टर ने कहा कि योजनाओं के क्रियान्वयन में संवेदनशीलता का परिचय दें। योजनाओं और उपलब्धियों के प्रचार-प्रसार को प्राथमिकता दें और पात्र हितग्राहियों का चयन कर उन्हें लाभांवित करें। 

 कलेक्टर ने विभागीय अधिकारियों से कहा कि चिन्हांकित किए गए पत्रों पर कार्रवाई समय सीमा के भीतर सुनिश्चित करें। कोई भी पत्र सीमा से अधिक समय तक लंबित न रहे। उन्होंने कहा कि आगामी बैठक में 31 मार्च से पूर्व के पत्र लंबित नहीं रहने चाहिए। निराकरण में किसी प्रकार की समस्या होने पर वरिष्ठ कार्यालय से मार्गदर्शन भी प्राप्त कर सकते हैं।

 कलेक्टर ने खाद-बीज से संबंधित विभाग के अधिकारियों से कहा कि किसानों की मांग के अनुरूप खाद-बीज का भंडारण सुनिश्चित करें। सरकार के निर्देशानुसार निजी और सहकारी संस्थाओं में निर्धारित अनुपात में खाद की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए। कलेक्टर ने कहा कि  उपलब्ध खाद-बीज की जानकारी भी किसानों को होनी चाहिए। कलेक्टर ने सहकारी बैंक के नोडल अधिकरी से कहा कि किसी भी शाखा में किसानों को भुगतान प्राप्त करने में समस्या नहीं आनी चाहिए। ऐसे बैंक शाखा जहां भीड़ अधिक है, वहां पर भुगतान काउन्टर की संख्या बढ़ाई जाय। 

 कलेक्टर ने दोनों जिला शिक्षा अधिकारियों और निर्माण विभाग के अधिकारियों से कहा कि सभी स्कूल आंगनबाड़ी केंद्रों में रनिंग वाटर सिस्टम और शौचालय उपयोगी हालत में रहे यह सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने कन्या विद्यालयों में शौचालय व पानी की समुचित व्यवस्था को प्राथमिकता देने कहा। कलेक्टर ने शिक्षा अधिकारियों से कहा कि सभी स्कूल भवनों की मरम्मत आदि के कार्य शीघ्र पूर्ण करवा लें। शासन के आदेश होते ही स्कूल प्रारंभ किया जाएगा। राजस्व विभाग से समन्वय कर जाति प्रमाण पत्र बनाने की कार्रवाई समय पर पूर्ण कर लें। कलेक्टर ने राज्य सरकार की महतारी दुलार योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि योजना के क्रियान्वयन के लिए जनपद सीईओ, महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा विभाग के समन्वय से कार्य करना होगा। बच्चों के सर्वे के लिए केवल स्कूल शिक्षा विभाग पर निर्भर ना रहें। ऐसे बच्चे को भी चिन्हित करें जो अभी स्कूल में भर्ती योग्य नहीं हुए हैं। ऐसे बच्चों की आंगनबाड़ी केंद्रों में पजीयन सुनिश्चित करें और भविष्य में स्कूल प्रवेश हेतु कार्य योजना तैयार रखें। इस योजना के सकारात्मक क्रियान्वयन के लिए जिला पंचायत सीईओ गजेंद्र सिंह ठाकुर को निर्देशित किया गया।

 कलेक्टर ने आपदा प्रबंधन की तैयारियों के संबंध में सभी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।  उन्होंने कहा कि जो विभाग आपदा प्रबंधन से संबंधित अपनी तैयारी पूर्ण कर चुके है, वे इस संबंध में प्रमाण पत्र जिला कार्यालय में जमा करें। जिन विभागों की तैयारी नहीं हुई है वे अपनी तैयारी शीघ्र पूर्ण कर लें। उन्होंने जिला सेनानी से मोटर बोट की उपलब्धता, गोताखोरों की संख्या, बाढ़ संभावित क्षेत्रों के संबंध में जानकारी ली। 

 कलेक्टर ने सभी नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों से कहा कि  नगरीय क्षेत्रों में साफ-सफाई और वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम सुनिश्चित हो। श्री शुक्ला ने कहा कि किसी भी नगर में साफ सफाई से संबंधित शिकायत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने उपस्थित सीएमओ से कहा कि कार्य ऐसा संपादित करें जिसकी आम नागरिक प्रशंसा करें ।

 कलेक्टर ने बताया कि 18 जून को मुख्यमंत्री द्वारा जिले के विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास का वर्चुअल कार्यक्रम प्रस्तावित है। सभी संबंधित विभागीय  अधिकारियों से कहा कि वे स्थान चयन कर आवश्यक तैयारी प्रारंभ कर दें।

 बैठक में अपर कलेक्टर लीना कोसम, जिला पंचायत सीईओ गजेंद्र सिंह ठाकुर सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।