breaking news New

हाथों में मशाल थामे शासकीय सेवकों ने निकाला विराट मशाल रैली , अपने हक के लिये भरी हुंकार

हाथों में मशाल थामे शासकीय सेवकों ने निकाला विराट मशाल रैली , अपने हक के लिये भरी हुंकार

राजनांदगाॅव।   छ.ग. कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक कमल वर्मा एवं सचिव राजेश चटर्जी के आव्हान पर राजनांदगाॅव जिला शाखा के द्वारा महासचिव सतीश ब्यौहरे एवं जिला संयोजक डाॅ. के.एल.टाण्डेकर के नेतृत्व में पदाधिकारीगण एवं सदस्यगणों ने अपनी लंबित मांगो के समर्थन में संघर्ष का आगाज किया। 

प्रथम चरण का यह आंदोलन आज 01 दिसंबर की दोपहर लगभग 1ः30 बजे कार्यालयीन भोजनावकाश की अवधि में संपन्न हुआ जिसमें विभिन्न विभागों के शासकीय सेवकगण एकत्रित होकर कलेक्ट्रेट एटीएम के सामने फ्लाई ओव्हर के नीचे से शांतिपूर्ण मशाल रैली के रूप में कलेक्ट्रेट भवन तक पहुॅचे और मुख्यमंत्री के नाम राजनांदगाॅव जिले के कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। 


इस जुलूस में शामिल होने वाले कर्मचारीगण-अधिकारीगण मशाल के साथ साथ अपने हाथ मंे एक एक सूखा दिया रखकर चलते दिखे जोकि राज्य शासन के उपेक्षा के कारण इस बार शासकीय सेवको की फीकी दिवाली उत्सव का प्रतीकात्मक प्रदर्शन था। फेडरेशन की जिला ईकाई मशाल जुलूस के साथ कलेक्ट्रेट परिसर में पहुॅच कर अपनी जायज मांगों के समर्थन में कुछ देर नारेबाजी की जिसके पश्चात् कलेक्टर के हस्ते मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन के नाम ज्ञापन सौंपा। 

इस मशाल जुलूस एवं प्रथम चरण के आंदोलन के विषय में फेडरेशन के जिला संयोजक डाॅ. के.एल.टाण्डेकर एवं महासचिव सतीश ब्यौहरे ने बताया कि राज्य के कर्मचारी-अधिकारी, शासन के उपेक्षापूर्ण रवैये से क्षुब्ध होकर इसके विरोध में आज 1 दिसंबर से प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों में चरणबद्ध आंदोलन प्रारंभ कर रहे हैं और ’कलम रख, मशाल उठा’ के नारे के साथ अपने हक की मांगो के लिये संघर्ष का आगाज कर रहे हैं। 


उल्लेखनीय है कि इस आंदोलन को राज्य शासन के विभिन्न 48 कर्मचारी एवं अधिकारी संगठनों का समर्थन प्राप्त है जो राज्य शासन से अपनी मांगो को लेकर प्रदेशव्यापी आंदोलन के लिये कमर कस चुके हैं। फेडरेशन के इन दोनों पदाधिकारियों ने बताया कि इस आंदोलन का दूसरा चरण 11.12.2020 को प्रारंभ होगा, जिसमें जिला स्तर पर वादा निभाओ, स्वाभिमान रैली आयोजित होगी जबकि तृतीय चरण 19.12.2020 को राजधानी रायपुर में वृहद स्तर पर आयोजित वादा निभाओ रैली के रूप में परिणीत होगा जिसमें राज्य के कोने-कोने से पहुॅचकर शासकीय सेवकगण अपनी लंबित मांगो के समर्थन में जंगी प्रदर्शन करेंगे।