breaking news New

च्वाईस सेंटरों में ए.पी.एल. परिवारों का भी बनेगा आयुष्मान कार्ड

 च्वाईस सेंटरों में ए.पी.एल. परिवारों का भी बनेगा आयुष्मान कार्ड

कांकेर । आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना और डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना अंतर्गत जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य किया जा रहा है। जिले में अब तक 03 लाख 78 हजार 500 परिवारों का आयुष्मान कार्ड बनाया जा चुका है। अंतागढ़ विकासखण्ड में 21 हजार 923, भानुप्रतापपुर में 41 हजार 657, चारामा में 56 हजार 308, दुर्गूकोंदल में 29 हजार 605, कांकेर में 55 हजार 673, कोयलीबेड़ा में 84 हजार 151, नरहरपुर में 54 हजार 348 और शहरी क्षेत्र में 34 हजार 766 परिवारों का पंजीयन आयुष्मान कार्ड बनाने के लिये किया जा चुका है। कलेक्टर चन्दन कुमार ने जिले के नागरिकों से अपील किया है कि योजना का लाभ उठाने के लिए नजदीकी शिविर में उपस्थित होकर आयुष्मान कार्ड अवश्य बनवायें।  उल्लेखनीय है कि योजनांतर्गत बीपीएल परिवारों (सामाजिक, आर्थिक एवं जातीय जनगणना वर्ष 2011 के एस.ई.सी.सी. के पात्र परिवारों) और अन्त्योदय एवं प्राथमिकता राशन कार्डधारी परिवारों को प्रतिवर्ष 05 लाख रूपये और एपीएल परिवारों को 50 हजार रूपये तक नि:शुल्क ईलाज की सुविधा आयुष्मान कार्ड से प्राप्त हो रही है।
जिले में आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य स्वास्थ्य केंद्रों एवं च्वाईस सेंटरों में किया जा रहा है। च्वाईस सेंटरों में पहले बीपीएल परिवारों का ही आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य किया जा रहा था, लेकिन अब शासन द्वारा दिये गये निर्देशानुसार एपीएल परिवारों का भी पंजीयन आयुष्मान कार्ड बनाने के लिए की जा रही है अर्थात एपीएल परिवार भी च्वाईस सेंटर में आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं। पात्रता रखने वाले जिन हितग्राहियों का आयुष्मान कार्ड च्वाईस सेंटरों के माध्यम से नहीं बन पा रहा है अथवा छोटे बच्चे, बुजुर्ग व्यक्ति जिनके अंगूठे या उंगलियों के निशान आधार कार्ड से मिलान नहीं हो पा रहा है, ऐसी स्थिति में वे व्यक्ति अपने परिवार का राशन कार्ड, आधार कार्ड एवं मोबाइल नम्बर साथ में लेकर स्वास्थ्य केंद्रों में आयुष्मान कार्ड बनवा सकते हैं, इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा विकासखण्डवार स्थल चिन्हांकित किये गये हैं।