breaking news New

पालिका चुनाव में कांग्रेस का प्रचार करने वाले को भाजपा किसान मोर्चा में मिला मीडिया प्रभारी का पद

पालिका चुनाव में कांग्रेस का प्रचार करने वाले को भाजपा किसान मोर्चा में मिला मीडिया प्रभारी का पद

शब्बीर क़ुरैशी, दल्ली राजहरा। भाजपा को नगर निगम पालिका चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। पूरे राज्य में इसके पीछे तरह तरह की वजह बताई जा रही है। सबसे प्रमुख कारण ये बताया जा रहा है कि जमीनी कार्यकर्ता अपने बड़े नेताओं से बहुत नाराज है।

हाल में ही दल्ली राजहरा मंडल के जितने भी पूर्व मंडल अध्यक्ष व वर्तमान मंडल अध्यक्ष ने नागेंद्र चौधरी के नाम से शिकायत की है यह शिकायत प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय, प्रदेश संगठन  मंत्री पवन साय , पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंग और बालोद जिला के अध्यक्ष कृष्ण कांत पवार को की थी।

शिकायत में यह था कि नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस का प्रचार करते हुए नागेंद्र चौधरी को रंगे हाथों पकड़ा गया था। वही कोंग्रेसी नेता कोंग्रेस के 9 पार्षद होने के बाद भी नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव जीत गया। इसमे भी भारतीय जनता पार्टी के पार्षदों को बरगला कर वोट पलटवाने में भी इनकी भूमिका संदिग्ध रही है।

नागेंद्र चौधरी पूर्व में भी महिला के साथ छेड़छाड़ के आरोप में लिप्त था। पूर्व मंडल अध्यक्ष व पार्षद प्रत्याशी ने इनको कांग्रेस के वर्तमान नगर पालिका अध्यक्ष का चुनाव प्रचार करते हुए सरेआम पकड़ा था। उसके बाद मंडल अध्यक्ष व पार्षद प्रत्याशी ने लिखित में जिला अध्यक्ष को शिकायत की थी, लेकिन जिला अध्यक्ष द्वारा कोई भी कार्यवाही नही की गयी ऊपर से कांग्रेस का प्रचार करते पाये जाने पर भी प्रदेश द्वारा नागेंद्र चौधरी को प्रदेश किसान मोर्चा के प्रदेश मीडया प्रभारी बनाया गया है और बिरगांव चुनाव प्रभारी भी बनाया गया है।

उसके बाद भी 5 पूर्व मंडल अध्यक्ष व वर्तमान मंडल अध्यक्ष द्वारा प्रदेश में  मोनु चौधरी की लिखित शिकायत कर यह बताया गया कि उनके द्वारा लगभग हर चुनाव में पार्टी विरोधी कार्य कर अनुशासनहीनता की जा रही है, लेकिन अपनी ऊँची पहुँच  के कारण आज तक उस पर कोई कार्यवाही नही हुई है। पूर्व में जिस प्रकार से पार्षदों पर कार्यवाही की गई है उसी तर्ज पर मोनु चौधरी पर भी कार्यवाही करने की मांग लगातार जमीनी कार्यकर्ताओ द्वारा उठाई जा रही है। यदि पार्टी ने प्रदेश के नेताओ के दबाव में आकर कार्यवाही नही की जाती तो भविष्य में भी दल्ली राजहरा में लगातार हार का सामना करना पड़ सकता है, और  जमीनी कार्यकर्ता का मनोबल भी लगातार गिरता जा रहा है।

यह विवादित नेता प्रदेश के कुछ बड़े नेताओं जिनकी परिक्रमा ओर चाटूकारिता कर अपना वर्चस्व बनाने का खोखला प्रयास करता है जब भी दल्ली राजहरा के संगठन के नेताओ द्वारा इसकी अनुशासनहीनता की शिकायत की जाती है तो उन्ही नेताओ के पास अपने कुछ खास लोगो को ले जाकर अपनी महिमामंडित करवाकर प्रदेश के नेताओ की आंखों में धूल झोंककर लगातर अपने ऊपर होने वाली कार्यवाही से बचता आ रहा है।

यह बताना भी लाजमी है कि पूर्व के नगर पालिका प्रत्यासी द्वारा भी इनके खिलाफ चुनाव में गाड़ा बेला का प्रचार करने की भी शिकायत संगठन में दर्ज करवाई की गई थी। उसके बाद भी लगातार अनुशासनहीनता पर कार्यवाही नही करना समझ से परे है। भीतरखाने की खबर है कि अब दल्ली राजहरा के जमीनी कार्यकर्ता संगठन का एक खेमा द्वारा लामबद्ध होकर प्रदेश भाजपा प्रभारी से इसकी अनुशासनहीनता की शिकायत करने की भी तैयारी चल रही है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु देव साय जी से फोन पर चर्चा पर उन्होंने बताया कि इस विषय को जानकारी नहीं है वो पता करवाते है अगर ऐसी बात सामने आएगी तो निश्चित कार्यवाही की जायेगी।