breaking news New

राज्य सरकार झूठी श्रेय लेने छ ग की जनता के साथ कर रही छल:-उमेश साहू

राज्य सरकार झूठी श्रेय लेने छ ग की जनता के साथ कर रही छल:-उमेश साहू

धमतरी:-कोरोना का दूसरा कहर दिन प्रतिदिन विकराल रूप लेते जा रही है।अस्पतालों में जगह नहीं है, लोग असमय मौत के गाल में समाते जा रहे हैं।शासन प्रशासन जनप्रतिनिधियों से लेकर समाजसेवी जन भी अपना कर्तव्य निभा रहे हैं।विकराल रूप के चलते एक बार फिर से लॉक डाउन का सहारा लेना पड़ रहा है,जिसके कारण व्यापारी के साथ साथ मजदूर आम आदमी सभी का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है।
इस विकराल समस्या को देखते हुए सांसद विधायक महापौर ने भी अपनी क्षेत्र विकास निधि कि राशि जिसको अपने क्षेत्र के मूलभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए होता है उसको इस आपदा की घड़ी में कोरोना रोकथाम पर लगा रहे हैं।
एक तरफ जहां जिले के तीनों विधायकों द्वारा जिले में अति आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाओं हेतु राशि स्वीकृत की गई ताकि लोगों की जान बचाई जा सके, वहीं दूसरी ओर राज्य सरकार द्वारा विधायकों की एक वर्ष की सम्पूर्ण राशि 2 करोड़ को मुख्यमंत्री राहत कोष में डालने का फरमान जारी कर रही है। सरकार को अपना फैसला बदलकर जो राशि विधायको को अपने क्षेत्र के विकास के लिए मिला है उसे उनके क्षेत्र के समस्या के हिसाब से खर्च करने देना चाहिए न कि तानाशाही रवैया अपनाकर उसे वापस मंगा लिया जाए।

अभी कुछ दिनों से प्रतिदिन समाचार पत्रों में छत्तीसगढ़ सरकार लगाएगी युवाओ को मुफ्त में टिका जिसका बहुत प्रचार प्रसार किया जा रहा है।
इसका पुरजोर विरोध जिले के सांसद प्रतिनिधि उमेश साहू द्वारा किया जा रहा है।उनका कहना है कि जब सरकार प्रदेश के युवाओं को मुफ्त टिका लगाने का घोषणा कर चुकी है तो अब क्यों जनता के हक़ के पैसे को वापस ले रही है ऐसा करना जनता के साथ साथ उनके द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधियों का भी अपमान है।
ऐसा भी नही है कि जनता ने सरकार को मदद नहीं कि बल्कि इतना मदद किये की सभी राशि को लगा दिया जाए तो राहत ही राहत होगी किसी का मौत संसाधन के अभाव में नही होगा।
जनता के द्वारा मुख्यमंत्री राहत कोष में करोड़ों दिये गए, किसानों का भी अंतिम किश्त से राशि काटी गई ,शराब के एक सीसी में 10 रु अतिरिक्त लेने से 400 करोड़ मिला,कर्मचारियों के एक दिन का वेतन से पैसा काटा गया।
इन सबसे सरकार के खजाने में हजारों हजार करोड़ रु कोविड़ के नाम से जमा हुआ जिसका आज एक भी काम जिले में नही दिख रहा है।
जनता ने प्रधानमंत्री राहत कोष में भी जमा किये जिसका परिणाम दिख रहा है केंद्र अलप समय मे ही लैब तैयार कर वेक्सीन बनाने में सफल रही और देश के हर राज्यो में भेज रही,आक्सीजन की कमी देखते हुए वायुसेना व ट्रेन के माध्यम से राज्यो को ऑक्सीजन भेज रही।बल्कि सभी राज्यो में ऑक्सीजन प्लांट बना रही जिसमें हमारा धमतरी जिला भी शामिल है। इतना ही नही इस संक्रमण काल में 5 की ग्राम चावल भी मुफ्त दे रही ताकि कोई गरीब भुखा न रहे।
ऐसे में क्षेत्र की जनता राज्य सरकार से जानना चाह रही कि धमतरी जिले को मुख्यमंत्री राहत कोष या अन्य कोष से कितनी राशि देकर राहत दी गई।सभी जिम्मेदार जनप्रतिनिधियों ने दिया पर अभी तक जिले के प्रमुख प्रभारी मंत्री द्वारा आज तक न राहत राशि दिए और न ही जनता की सुध लिए।