breaking news New

डाॅ.मुखर्जी अपनी मातृभूमि के लिए एक सच्चे योद्धा थे - प्रदेशाध्यक्ष अखिलेश सोनी

डाॅ.मुखर्जी अपनी मातृभूमि के लिए एक सच्चे योद्धा थे - प्रदेशाध्यक्ष अखिलेश सोनी


बैकुण्ठपुर - डाॅ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के स्मृति दिवस पर बुधवार को भारतीय जनता पार्टी द्वारा जिले भर में कार्यक्रमों का आयोजन कर उन्हंे नमन किया गया। भाजपा जिला कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनके चित्र पर माल्यार्पण कर द्वीप प्रज्जवलित किया। साथ ही प्रेमाबाग शिव मंदिर परिसर में पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा फलदार वृक्षारोपण किया गया। जिसमें मुख्य रूप से ओबीसी मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश सोनी, जिलाध्यक्ष कृष्णबिहारी जायसवाल, पूर्व मंत्री भईयालाल राजवाड़े, किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्यामबिहारी जायसवाल, महिला मोर्चा प्रदेश महामंत्री चम्पादेवी पावले, जिला पंचायत अध्यक्ष रेणुका सिंह, प्रदेश कार्यसमिति सदस्य प्रदीप सालूजा उपस्थित रहे। कार्यक्रम जिलाध्यक्ष कृष्णबिहारी जायसवाल के अध्यक्षता में संपन्न हुआ।

इस दौरान जिलाध्यक्ष कृष्णबिहारी जायसवाल ने कहा कि, डाॅ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के पुण्यतिथि पर जिला भाजपा कार्यालय एवं मंडल स्तर पर कार्यक्रम आयोजित की गई है। ओबीसी प्रदेशाध्यक्ष अखिलेश सोनी ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए डाॅ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवनी पर प्रकाश डाला। उन्हांेने कहा कि, डाॅ.मुखर्जी अपनी मातृभूमि के लिए एक सच्चे योद्धा के रूप में कश्मीर के एकीकरण के लिए युद्ध के सामने वाले मोर्चे पर बलिदान हुए और जो कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और उसे होना चाहिए। डाॅ. मुखर्जी जी का लोगो के लिए उनका आखिरी संदेश था मैने जम्मू और कश्मीर में परमिट प्रणाली को चुनौती देते हुए प्रवेश कर लिया है। वे पहले व्यक्ति थे जो भारत की एकता तथा एकीकरण के लिए शहीद हुए।

उनका व्यक्तित्व, उनकी तर्क क्षमता, उनकी राजनीतिक दृढ़ता तथा सबसे बढ़कर उनका मानवतावाद आने वाली पीढ़ियों को हमेशा प्रेरित और मार्गदर्शन मिलता रहेंगा।पूर्व मंत्री भईयालाल राजवाड़े ने कहा कि, डाॅ.मुखर्जी त्याग की मूर्ति एवं हमारे प्रेरणा स्त्रोत है उन्होेने एक राष्ट्र दो विधान दो संविधान का विरोध करते हुए बिना परमिट के जम्मू कश्मीर में प्रवेश किया।

वहां पर उन्हें गिरफतार कर लिया गया। आज ही के दिन 23 जून 1953 को जेल में उनको शहादत दी गई।  राष्ट्र की एकता और अखण्डता को बनाए रखने के लिए उन्हांेने अपने प्राणों की बलिदान किया। श्यामबिहारी जायसवाल ने कहा कि, डाॅ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़े। कल्कता विश्वविद्यालय में शैक्षणिक रिकाॅर्ड तथा स्नातक एवं स्नातकोत्तर परीक्षा में सर्वोच्च स्थान पाकर कलकत्ता उच्च न्यायालय में इंडियन बार के सदस्य बनने के लिए कानून का अध्ययन किया और इसके बाद बैरिस्टर बनने के लिए इंग्लैण्ड रवाना हो गये जिससे कि वे इंग्लिश बार में सदस्य बन सके।

लेकिन उनका इंग्लैण्ड जाने का मूल उद्देश्य ब्रिटेन में विश्वविद्यालयों की कार्यप्रणाली का अध्ययन करना था।  महिला मोर्चा प्रदेश महामंत्री  चम्पादेवी पावले ने कहा कि, डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी जनसंघ के संस्थापक थे हम सबको उनके बताए गए रास्तो पर चलना है। एक राष्ट्र दो विधान नहीं चलेगी। यह आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके सपने को साकार किया है। कार्यक्रम का मंच संचालन जिला महामंत्री जमुना पाण्डेय एवं आभार व्यक्त जिला मंत्री पंकज गुप्ता ने किया। इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष विरेन्द्र राणा, शैलेष शिवहरे, देवेन्द्र तिवारी, महामंत्री जमुना पाण्डेय, डमरू बेहरा, जिला कोषाध्यक्ष राहुल सिंह, जिला मंत्री पंकज गुप्ता, किसान मोर्चा प्रदेश मंत्री गोमती द्विवेदी, जिला कार्यालय मंत्री तीरथ राजवाड़े, जिला पंचायत सदस्य सुनिता कुर्रे, पूर्व नपाध्यक्ष राजेश सिंह, मंडल अध्यक्ष भानूपाल, महामंत्री सुभाष साहू, अरशद खान, मंडल अध्यक्ष रघुनंदन यादव, कपिल जायसवाल, गोपाल राजवाड़े, महामंत्री संदीप गुप्ता, अरूण जायसवाल,मंडल उपाध्यक्ष बिजेन्द्र जायसवाल, सुदीप सोनी, सुवेज अहमद, मंजू जिवनानी, भाजयुमो प्रदेश कार्यसमिति सदस्य हर्षल गुप्ता, जिलाध्यक्ष अंचल राजवाड़े, महामंत्री शारदा गुप्ता, अल्प संख्यक जिला महामंत्री शहीद अशरफी, भाजयुमो नेता मनोज शुक्ला, प्रखर गुप्ता, सुमिता गुप्ता, विकास शुक्ला, नवीन मिश्रा, श्रषभ नामदेव, काजल गुप्ता, निखिल सिंह, दीपक गुप्ता सहित भारी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।