breaking news New

नियम विरूद्ध सी ए सी का प्रस्ताव अधिकारियों द्वारा प्राचार्यो पर बनाया जा रहा दवाब

नियम विरूद्ध सी ए सी  का प्रस्ताव अधिकारियों द्वारा प्राचार्यो पर बनाया जा रहा दवाब

भरतपुर, 27 मार्च। राज्य परियोजना कार्यालय समग्र शिक्षा छग रायपुर पत्र क्रमांक/1557/रायपुर दिनांक 22/01/21शाला संकुल व्यवस्था  अन्तर्गत संकुल प्रभारी/समन्यवक हेतु आवश्यक दिशा निर्देश के अनुसार चयन प्रक्रिया 1 हाई स्कूल/ हायर सेकेण्डरी के प्राचार्य पदेन संकुल प्रभारी होगे।

2जिला स्तर में तीन सदस्यों की समिति (जिला शिक्षा अधिकारी/जिला सम्यवक एवम् सम्बन्धित प्रभारी प्राचार्य होगे)।

3संकुल समन्यवक हेतु अधिकतम उच्च वर्ग शिक्षक /प्रधान पाठक को निम्न सर्तो को पूरा करने पर नामांकित किया जाएगा। 1मूलभूत तकनीकी कम्प्यूटर/एंड्रायड मोबाइल की जानकारी हो। 2एकल /द्वी शिक्षकीय शालाओं से संकुल समन्यवक नहीं बनाया जाएगा।

15/03/21को जिला की बैठक में deo कोरिया द्वारा प्राचार्य को मौखिक निर्देश दिया गया कि जो सी ए सी पहले से कार्यरत है उनकी शाला चाहे एकल /दो शिक्षकीय हो उन्ही का प्रस्ताव भेजे ।इसी निर्देश का हवाला देते हुए विकास खंड शिक्षा अधिकारी भरतपुर के द्वारा एक पत्र क्रमांक/1214/समीक्षा बैठक/ जारी  करते हुए संकुल पुनर्गठन हेतु एक नया फरमान जारी किया जिसमें जिला शिक्षा अधिकारी जिला कोरिया के निर्देश का अनुपालन करते हुए संकुल शैक्षिक समन्यवक हेतु सहायक शिक्षक का निर्धारित प्रपत्र अनुसार प्रस्ताव करने की स्थिति में सम्बन्धित संकुल केंद्र परिधि  के समस्त पूर्व मध्मिक शाला के प्रधान पाठक एवम् उच्च वर्ग शिक्षक का अस्वीकार पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य है इसका सीधा सा मतलब एक व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने का तुगलकी फरमान जारी किया गया जिसमें राज्य सरकार के दिशा निर्देशों की लगातार अवहेलना किया गया। सी ए सी की नियुक्ति में भारी अनियमितता बरती जा रही क्योंकि जहा बहुत से जिलों में 70%से अधिक सहायक शिक्षक को cac बना दिया गया किन्तु कोरिया जिला में आज तक फैसला नहीं हो पाया कि किसे बनाया जाय।