breaking news New

आईपीडीएस योजना के तहत किए जा रहे कार्यों का लिया जायजा

आईपीडीएस योजना के तहत किए जा रहे कार्यों का लिया जायजा


साजा पहुंचकर ईडी ने लाइन लाॅस कम करने एवं पूरी सजगता से कार्य करने मैदानी अधिकारियों को दिये निर्देश

दुर्ग, 28 दिसंबर। छत्तीसगढ़ स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड दुर्ग क्षेत्र के कार्यपालक निदेशक संजय पटेल ने साजा में एकीकृत ऊर्जा विकास योजना (आईपीडीएस) के तहत किये जा रहे विद्युत विस्तार के कार्यों का जायजा लिया। उन्होंने प्रस्तावित कार्यों को निर्धारित समयावधि पर पूर्ण करने पर जोर दिया। श्री पटेल ने मैदानी अधिकारियों को 31 जनवरी 2021 अथवा इससे पूर्व वितरण हानि को 08 प्रतिशत अथवा इससे कम किये जाने के सख्त निर्देश दिये। इस दौरान उन्हाेंने निर्धारित समयावधि में कार्य को पूर्ण करने एवं गुणवत्ता बनाये रखने के दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने योजना के तहत इम्पोर्ट एवं एक्सपोर्ट पांइट, रिंग फैन्सिग डायग्राम, डीटी टैगिंग, कन्ज्यूमर टैगिंग, डीटी कोड जनरेषन, फीडरों एवं वितरण ट्रांसफार्मरों के मीटरों की जानकारी एवं फीडरवार वितरण हानि पर विस्तृत जानकारी लेकर दिये गये लक्ष्य को शीघ्र हासिल करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सैप प्रणाली में 11 के.व्ही फीडरों पर वितरण ट्रांसफार्मरों की टैंगिंग सहीं हो, फीडर वार वितरण हानि की नियमित समीक्षा कर इसे कम करने के प्रयास निरतंर करें।

 श्री पटेल ने घर के अंदर लगे हुए मीटरों को बाहर लगाने एवं असामान्य ऊंचाई पर लगे मीटरों को आई लेवल पर शिफ्ट करने के निर्देश दिए। उन्होेंने उपभोक्ताओं का मोबाइल नं दर्ज करने एवं उनकी सलाह और षिकायतों को दर्ज कर प्राथमिकता से निराकृत करने के निर्देश दिए। उपभोक्ताओं को हाफ बिजली बिल योजना का लाभ लेने के लिए बकाया भुगतान करने प्रोत्साहित करने की बात कही। कार्यपालक निदेशक संजय पटेल ने कहा कि टीएण्डडी लाॅस को कम करना ही हमारा मुख्य उद्देष्य है। इस दिशा में लक्ष्य प्राप्ति के लिए प्रभावी कदम उठाये जाए।  

इस दौरे में उनके साथ अधीक्षण अभियंता व्ही.आर.मौर्या, कार्यपालन अभियंता डी.के.सैनी एवं अन्य मैदानी कर्मचारी उपस्थित हुए। कार्यपालक निदेषक पटेल ने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि इस योजना के तहत स्थापित किये जा रहे विद्युत उपकरणों एवं लाइनों की गुणावत्ता कंपनी द्वारा तय किये गये मापदण्ड के अनुसार होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इन कार्यों का सतत् मूल्याकंन कर नियत समयावधि में पूर्ण कराने हेतु संबधितों को निर्देश जारी किये जाएं।