breaking news New

कांग्रेस BJP-lite बनना बर्दाश्त नहीं कर सकती- शशि थरूर

 कांग्रेस BJP-lite बनना बर्दाश्त नहीं कर सकती- शशि थरूर

नई दिल्ली, 12 नवम्बर। कांग्रेस पर ‘सॉफ्ट हिंदुत्व’ को अपनाने के आरोपों का जवाब देते हुए पार्टी लीडर शशि थरूर ने कहा कि कांग्रेस हल्की-बीजेपी बनना बर्दाश्त नहीं कर सकती.

एक वर्चुअल ऑफ द कफ बातचीत में थरूर ने कहा कि कांग्रेस ‘किसी भी रूप या आकार में’ बीजेपी की तरह नहीं है.

थरूर ने कहा, ‘मैं जानता हूं कि बहुत से उदारवादियों के बीच ये एक वास्तविक चिंता है लेकिन हम हल्की-बीजेपी बनना बर्दाश्त नहीं कर सकते’. उन्होंने आगे कहा, ‘मैं बहुत समय से कहता आ रहा हूं कि पेप्सी-लाइट की तरह बीजेपी-लाइट बनने की कोशिश में हम आख़िर में कोक-ज़ीरो या कांग्रेस-ज़ीरो बन जाएंगे’.

उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस ‘किसी भी रूप या आकार में’ बीजेपी नहीं है. हमें उस चीज़ का हल्का रूप बनने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, जो हम नहीं हैं. और मैं तो कहूंगा कि हम दरअसल ये कोशिश कर भी नहीं रहे’. उन्होंने आगे कहा, ‘कांग्रेस हिंदू धर्म और हिंदुत्व में अंतर करती है. हिंदू धर्म का हम एक समावेशी और गैर-आलोचनात्मक धर्म के तौर पर आदर करते हैं, जबकि दूसरी ओर हिंदुत्व एक राजनीतिक धारणा है, और बहिष्करण पर आधारित है’.

तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद ने हाल ही में, अपनी ताज़ा किताब ‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग, एक्सप्लोरिंग आइडियाज़ ऑफ नेशनलिज़म एंड पेट्रियॉटिज़्म’ रिलीज़ की है.

थरूर ने 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले, कांग्रेस लीडर राहुल गांधी के मंदिरों के दौरों का भी बचाव किया.

थरूर ने कहा, ‘बीजेपी के राजनीतिक संदेश का हलका रूप पेश करने की बजाय, कांग्रेस ये कह रही है कि एक निजी धर्म के तौर पर, आप हिंदू रह सकते हैं, मंदिरों में जाने में कोई हर्ज नहीं है’. उन्होंने आगे कहा, ‘जब राहुल गांधी मंदिरों में जाते हैं…तो उन्होंने ये भी कहा कि वो हिंदुत्व में यक़ीन नहीं रखते, चाहे वो सॉफ्ट हो या हार्ड हो’.

लीडर ने ये भी कहा कि वो भी अपने चुनाव क्षेत्र में, मंदिरों में जाते हैं और मस्जिदों और चर्चों में भी जाते हैं.

थरूर ने कहा, ‘एक राजनेता के नाते आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप उन चीज़ों के प्रति सम्मान दिखाएं, जो आपके मतदाताओं के लिए क़ीमती हैं. जब तक आप बुनियादी तौर पर असहमत न हों, तब तक आप क्यों नहीं जाएंगे’.