breaking news New

दो खुराक लेने के बाद ही प्रभावी होती है ‘कोवैक्सीन’ :भारत बायोटेक

दो खुराक लेने के बाद ही प्रभावी होती है  ‘कोवैक्सीन’  :भारत बायोटेक

नयी दिल्ली।  भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ के तीसरे चरण के मानव परीक्षण में शामिल हुए हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि होने पर वैक्सीन निर्माता कंपनी ने स्पष्ट किया है कि यह वैक्सीन दो खुराक लेने के बाद ही प्रभावी होती है।

कोवैक्सीन के तीसरे चरण के मानव परीक्षण में शामिल हुए श्री विज को गत 20 नवंबर को कोवैक्सीन की पहली खुराक दी गयी थी। श्री विज ने आज जैसे ही अपने कोरोना संक्रमित होने के बारे में ट्वीट किया , वैसे ही ट्विटर पर कोवैक्सीन की प्रभावोत्पादकता को लेकर बहस छिड़ गयी ।

इस बढ़ती बहस के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने बयान दिया कि इस वैक्सीन की दूसरी डोज देने की निश्चित अवधि के बाद ही इंसान में संक्रमण के खिलाफ एंटी बॉडीज का निर्माण होता है। यह वैक्सीन दो डोज वाली है और संबंधित मंत्री ने वैक्सीन की एक ही डोज ली है।

मंत्रालय के इस बयान के बाद अब भारत बायोटेक ने भी स्पष्टीकरण दिया है। कंपनी का कहना है कि तीसरे चरण के मानव परीक्षण के दौरान वालंटियर को 28 दिन के अंतराल पर वैक्सीन की दो डोज लेनी होती है। दूसरी डोज लेने के 14 दिन बाद वैक्सीन का प्रभाव पता चलता है।

कंपनी ने कहा है कि तीसरे चरण का परीक्षण डबल ब्लांइड साइड स्टडी है यानी वैक्सीन देने वालों और वैक्सीन लेने वालों में से किसी को भी पता नहीं होता कि उन्हें वैक्सीन दी गयी है या वैक्सीन जैसी दिखने वाली प्लेसेबो।

कंपनी ने बताया कि वैक्सीन के परीक्षण में शामिल सभी व्यक्तियों को स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी कोरोना से बचाव से संबंधित दिशानिर्देशों का पालन करने की सलाह दी गयी है।