breaking news New

राम मंदिर के लिए निधि संग्रह के लिए मप्र में 1.5 करोड़ परिवारों तक पहुंचेगा न्यास

 राम मंदिर के लिए निधि संग्रह के लिए मप्र में 1.5 करोड़ परिवारों तक पहुंचेगा न्यास


जो श्रीराम को महापुरुष और इमाम-ए-हिंद मानते हैं, उन मुस्लिमो का भी स्वागत- आलोक कुमार  

भोपाल । अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए मप्र से भी निधि संग्रह का काम किया जाएगा . इस सिलसिले मे जानकारी देने भोपाल आए विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि विहिप देश में सवा पांच लाख गांवों मे 13 करोड़ परिवारों से तथा मध्यप्रदेश में 50 हजार गांव मे पहुचकर 1.5 करोड़ परिवारों से निधि संग्रह करने का काम करेगा। विहिप इसके लिए 5 लोगों की संग्रह टोलियां बनाएगा। कुमार ने कहा कि जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र न्?यास ने मध्य प्रदेश के लिए संत अखिलेश्वरानंद जी महाराज जबलपुर की अध्यक्षता में एक श्री राम मंदिर निर्माण निधि समिति का गठन भी किया है। पूरे अभियान की देखरेख मध्?य भारत प्रांत एवं अन्?य प्रांत निधि समर्पण अभियान समितियों सहित संतों के मार्गदर्शक समिति द्वारा की जाएगी।

मुसलमान राम के काज में दान देना चाहेंगे, तो अवश्य दें

आलोक कुमार ने कहा कि कि प्रभू श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण के लिए इस निधि संग्रह के महा अभियान में उन मुस्लिम धर्मावलंबियों का भी स्?वागत है जो श्रीराम को अवतार, महापुरुष और इमाम-ए-हिंद मानते हैं। अगर मुसलमान राम के काज में दान देना चाहेंगे, तो अवश्?य दें । उन्होने उज्जैन और इंदौर में हुईं दो घटनाओं को लेकर कहा कि कोई हमारे आंदोलन को बदनाम न कर सकें। इसकी हम सतर्कता बरतेंगे। कानून व्यवस्था देख रहीं एजेंसीज को भी कहेंगे कि वो भी सतर्कता रखें।  जैसा सबने पहले से मन बनाया था, वैसा फैसला आने के बाद कोर्ट के निर्णय को स्वीकार किया है। हम शांति और सौहाद्र्र बनाने के लिए संकल्पित हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या में मंदिर बन रहा है, तो मस्जिद के लिए भी वहीं जगह मिली है। लेकिन वे  किसी भी सूरत में टकराव की स्थिति नहीं बनने देंगे और कोई ऐसा करता है तो यह देखना प्रशासन का काम है, ऐसे में हमारा पूरा सहयोग प्रशासन के साथ होगा । अब हम संघर्ष की स्थिति में नहीं रचना करने के कार्य में जुटे हुए हैं, इसलिए इस तरह की घटनाएं कहीं भी नहीं होनी चाहिए।

48 घंटों के अंदर तीर्थक्षेत्र के बैंक खाते में जमा की जाएगी राशि

निधि संग्रह के लिए 5 लोगों की टोलियां एक जमाकर्ता को रिपोर्ट करेगी। सभी संग्रह 48 घंटों के भीतर तीर्थक्षेत्र के बैंक खाते में जमा किए जाएंगे। प्रत्येक जमाकर्ता के पास भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा और पंजाब नेशनल बैंक के तीन बैंकों में से एक का निकटतम शाखा में एक पंजीकृत कोड नंबर होगा। यहां निधि संग्रह में पूरी पारदर्शिता रखे जाने की व्?यवस्?था सुनिश्?चित की गई है ।