breaking news New

उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, जगदलपुर द्वारा कॉफी उत्पादन पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम

उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, जगदलपुर द्वारा कॉफी उत्पादन पर दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम


जगदलपुर। उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, जगदलपुर के द्वारा आज दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम कॉफी उत्पादन तकनीकी एवं बस्तर में इसके उद्यम की संभावनाओं विषय पर आयोजित किया गया, जिसमें  संसदीय सचिव एवं विधायक विधानसभा क्षेत्र जगदलपुर रेख चंद जैन जी ने मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम में शिरकत की।
अपने वक्तव्य में उन्होंने उद्यानिकी महाविद्यालय अनुसंधान केंद्र जगदलपुर के द्वारा दरभा जैसे दुर्गम क्षेत्र में कॉफी उत्पादन को बढ़ावा देने जैसा कार्य किये जाने की सराहना की एवं वहां उपस्थित कृषक और कृषक महिलाओं का उत्साहवर्धन करते हुए उन्होंने क्षेत्रीय लोगों को बताया कि उद्यानिकी महाविद्यालय द्वारा अभी आरंभ में विगत 3 वर्षों में 20 एकड़ में कॉफी की 5 किस्मों को लगाया गया है और वर्तमान समय में डिलमिली क्षेत्र के 100 एकड़ में कॉफी के पौधौं का रोपण का कार्य उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र के द्वारा मॉडल फार्म विकसित किए जाने के रूप में किया जा रहा है।
जिसका पूरा लाभ बस्तर क्षेत्र के किसानों को मिलेगा। साथ ही उन्होंने क्षेत्रीय किसानों द्वारा कॉफी उत्पादन तकनीकी को अपनाए जाने का अनुरोध भी किया और कहा कि यदि किसान भविष्य में इस तकनीकी को अपनाते हैं तो उनको साल भर रोजगार मिलने के साथ-साथ उनकी वार्षिक आमदनी में भी बढ़ोतरी होगी। उन्होंने जोर देते हुये कहा कि वन अधिकार पट्टा के तहत प्राप्त भूमि पर इस तकनीकी काे अपनाकर अच्छा लाभ कमाया जा सकता है।
 उक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम में दरभा जैसे दुर्गम क्षेत्र के कृषक एवं कृषक महिलाओं को उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र, जगदलपुर के  वैज्ञानिकों डॉ. पी.के. तिवारी, डॉ. के.पी. सिंह, श्री जी.पी. नाग, डॉ. रवि श्रेय, इं. भागवत कुमार, श्री अनुराग केरकेट्टा आदि ने प्रशिक्षित किया तथा कॉफी परियोजना के प्रमुख अन्वेषक डॉ. के.पी. सिंह जी कॉफी परियोजना की जानकारी देते हुये उपस्थित जन-समूह को कॉफी प्रक्षेत्र का भ्रमण कराया।


 प्रशिक्षण कार्यक्रम में उपस्थित उप-संचालक (कृषि)  विकास साहू जी ने अपने वक्तव्य में किसानों द्वारा उन्नत तकनीकीयों के साथ-साथ सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न उपयोगी योजनाओं का लाभ भी लिए जाने की बात कही। उक्त दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रथम दिवस पर उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र के अधिष्ठाता डॉ. आर.एस. नेताम, शहीद गुंडाधुर कृषि महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र के अधिष्ठाता डॉ. एच.सी. नन्दा सहित उप सरपंच ग्राम दरभा  राजीव राठौर, प्रदेश सचिव एनएसयूआई अरुण गुप्ता, जिला महासचिव  सनाउल रजा, युवा कांग्रेस अध्यक्ष सोनारू नाग, संयुक्त महामंत्री बस्तर जिला  मान सिंह ठाकुर, जिला उपाध्यक्ष बस्तर  गागरूराम नाग, पीसीसी सदस्य  कमल सहाय कश्यप एवं जनपद सदस्य  तुला राम कश्यप आदि उपस्थित जन-समूह के समक्ष डिलमिली क्षेत्र के प्रगतिशील कृषक  जलनूराम बघेल ने उपस्थित कृषकों का उत्साहवर्धन किया।
ज्ञातव्य हो कि अभी हाल ही में डिलमिली के 34 कृषकों  को उद्यानिकी महाविद्यालय एवं अनुसंधान केंद्र के दिशा निर्देशन में संगठित कर समूह बनाकर 100 एकड़ क्षेत्र में कॉफी उत्पादन करने का बीड़ा उठाया है। उक्त प्रशिक्षण कार्यक्रम को कोविड-19 के गाइडलाइंस का पालन करते हुये उद्यानिकी महाविद्यालय अनुसंधान केंद्र,जगदलपुर के वैज्ञानिक डॉ. पी.के. तिवारी द्वारा श्री दीपक सुनार एवं कॉफी परियोजना के तकनीकी सहायक श्री खुलय जोशी एवं कु. ज्योति ठाकुर के सहयोग से सफलतापूर्वक संचालित किया गया, जिसमें लगभग दरभा क्षेत्र के 250 से अधिक किसान उपस्थित रहे।