breaking news New

हैवी ब्लास्टिंग से परेशान हुए ग्रामीण घर टूटा महिला हुई घायल आक्रोशित ग्रामीण एफआईआर कराने पहुंचे चौकी

हैवी ब्लास्टिंग से परेशान हुए ग्रामीण घर टूटा महिला हुई घायल आक्रोशित ग्रामीण एफआईआर कराने पहुंचे चौकी

 कोरबा, 29 जून। एसईसीएल दीपका परियोजना की हैवी ब्लास्टिंग प्रभावित ग्राम सुआभोंडी के एक ग्रामीण परिवार पर कहर बनकर टूटा। सोमवार की दोपहर 2:30 बजे एक मकान का हिस्सा भरभरा कर गिर गया। मकान के भीतर मौजूद शांति बाई नामक महिला घायल हाे गई, जबकि उसकी 15 वर्ष की पुत्री बाल- बाल बची। आक्रोशित ग्रामीण उर्जाधानी भू -विस्थापित संगठन के साथ एसईसीएल के खिलाफ हरदीबाजार चौकी में एफआईआर दर्ज कराने शिकायत पत्र सौंपा है।


ग्रामीणों के मुताबिक जिस समय घटना हुई उस दौरान खदान में हैवी ब्लास्टिंग हुई थी। प्रबंधन की ओर से की जा रही हैवी ब्लास्टिंग के कारण ही घटना हुई है। लाेगाें ने कहा कि जब इसकी सूचना एसईसीएल के अधिकारियाें काे दी ताे उन्हाेंने माैके पर आने से ही मना कर दिया। इसकाे लेकर ग्रामीणाें में आक्रोश व्याप्त है।प्रबंधन के रवैये से नाराज ग्रामीण ऊर्जाधानी भू-विस्थापित संगठन के पदाधिकारी व सदस्याें के साथ हरदीबाजार चाैकी पहुंच गए और घटना के लिए जिम्मेदार एसईसीएल दीपका प्रबंधन के अधिकारियाें के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की। शिकायत करने वाली शांति बाई ने बताया कि हैवी ब्लास्टिंग के कारण पहले भी इस तरह की घटनाएं हाे चुकी है। हरदीबाजार चाैकी में शिकायत के दाैरान ऊर्जाधानी भू-विस्थापित किसान कल्याण समिति के अध्यक्ष कुलदीप सपुरन, कुलदीप राठौर, प्रकाश बाबा, जनपद सदस्य अनिल टंडन, पूर्व सरपंच रविद्र जगत, अनुसुईयां राठौर, ललित महिलांगे, गजेंद्र सिंह सहित अन्य उपस्थित रहे।

नहीं रुक रहा टकराव ,प्रशासन पर उठ रहे सवाल

उल्लेखनीय है कि एसईसीएल दीपका प्रबंधन की लापरवाही ,मनमानी एवं जन अहितकारी रवैय्ये से प्रभावितों व प्रबंधन के बीच टकराव बनी हुई है। वादाखिलाफी में मशहूर एसईसीएल के रवैये को लेकर प्रभावितों में रोष व्याप्त है। हमेशा की तरह जिला प्रशासन एसईसीएल की मनमानी एवं जन अहितकारी कार्यों पर नकेल कसने नाकाम रहा है। जिससे प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे हैं।