breaking news New

प्रख्यात राजनीति विज्ञानी सी पी भांबरी नहीं रहे

प्रख्यात राजनीति विज्ञानी सी पी भांबरी नहीं रहे

नई दिल्ली, 8 नवंबर।  देश के जाने-माने राजनीति विज्ञानी एवं जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में समाज विज्ञान के पूर्व डीन सी पी भांबरी का रविवार को तड़के यहां अपने आवास पर निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे।

श्री भांबरी के परिवार में पत्नी के अलावा एक पुत्र और पुत्री हैं। उनका अंतिम संस्कार दोपहर तीन बजे लोदी रोड विद्युत शव दाह गृह में कर दिया गया।

गत 28 मॉर्च 1933 को मुल्तान(पाकिस्तान) में जन्मे प्रोफ भांबरी देश मे लोक प्रशासन और भारतीय राजनीति के अधिकारी विद्वान माने जाते थे। वे जेएनयू में राजनीति विभाग के अध्यक्ष और समाज विज्ञान संकाय के भी अध्यक्ष रहे। वह लंदन,कनाडा,जर्मनी एवं तंजानिया आदि के विश्विद्यालय के अतिथि फेलो भी रहे। जेएनयू से 1998 में सेवानिवृत्त होने के बाद वह वहां जेएनयू द्वारा विशिष्ठ विद्वान के रूप में नियुक्त हुए फिर विश्विद्यालयय अनुदान आयोग (यूजीसी) के ‘अतिथि विद्वान’ के रूप में रहे।

उन्होंने आगरा विश्विद्यालय से राजनीति विज्ञान में एम ए और पीएचडी की जबकि पोस्ट डॉक्टरोल अमरीका के मिशिगन विश्विद्यालयय से की थी।

प्रोफ भांबरी ने 1954 में मुरादाबाद के एक कॉलेज से नौकरी शुरू की फिर वे 1956 में मेरठ में व्याख्याता बने फिर 1961 में जय पुर र्मे राजस्थान विश्विद्यालयय में रहे। 1972 में वह जे एन यू में नियुक्त हुए।उन्होंने राजनीति शास्त्र पर 20 से अधिक किताबें लिखी थी। भारतीय राजनीति , भूमंडलीकरण, नौकरशाही , भारतीय जनता पार्टी ,हिंदुत्व आदि विषयों पर भी उन्होंने किताबें लिखी।