breaking news New

खबर का फिर हुआ असर: महिला पटवारी पर ग्रामीणों ने जमीन मामले में लगाई थी पांच हजार रिश्वत मांगने का आरोप

खबर का फिर हुआ असर: महिला पटवारी पर ग्रामीणों ने जमीन मामले में लगाई थी पांच हजार रिश्वत मांगने का आरोप

सुरजपुर, 20 नवम्बर। सुरजपुर जिले के एक महिला पटवारी जमीन मामले ग्रामीणों से रिष्वत मांगने का मामला सामने आया था। जिसका समाचार आज की जनधारा ने प्रमुखता से प्रकाशित की थी। जिस पर जिले के क्लेक्टर ने संज्ञान लेकर सुरजपुर एसडीएम ने महिला पटवारी पर निलंबन की कार्यवाही की है। 

गौरतलब है कि विश्रामपुर ( पिल्खा) तहसील दफ्तर के अंतर्गत ग्राम करमपुर के स्थानीय ग्रामीण व सरपंच द्वारा आरोप लगाया कि हल्का नम्बर 23 के पटवारी रुकमणी शुक्ला के द्वारा जमीन सम्बंधित कार्य मे रिश्वत लेने का आरोप लगाया है। स्थानीय ग्रामीण शुदर्शन प्रसाद ने बताया कि ससुराल में मेरे साले की मृत्यु हो गई है थी। जमीन सम्बधी फवती उतारने के लिए पटवारी रुक्मणी के पास गए थे। पटवारी मैडम ने इनसे 5000 हजार रिश्वत की मांग की गई जब पैसे नही होने की बात कही गई तब पटवारी मैडम ने किसी और का नाम हमारे खाते में चढ़ा दी थी। जानकारी हमें चेक करवाने के उपरांत पता चला, इसके बाद फिर नाम मे सुधार करने के लिए आवेदन दिए थे जिसके बाद पटवारी मैडम द्वारा 5 हजार रुपये रिश्वत लेने के उपरांत नाम चढाई है। पटवारी द्वारा अवैध कब्जा चढ़ाने के कार्य हमेशा करती रहती है। कुछ कहने पर गाली गलौच करने का आरोप ग्रामीणों ने लगाया था। 

रिश्वत की मांग की शिकायत महिला पटवारी के खिलाफ ग्रामीण सुदर्शन प्रसाद 3/07/ 2019 में शिकायक्त प्रसाशन से किए थे। जब कोई कार्यवाही नही हुई जिसके बाद दर्जन भर ग्रामीणों ने सरपंच समेत संयुक्त रूप से दस्तखत करके पिल्खा के नायाब तहसीलदार को लिखित शिकायत 28/05/ 2020 को किया गया है। जिसके बाद भी कोई ठोस कार्यवाही नही की गई है। ग्रामीण कहते है पटवारी द्वारा रिश्वत की मांग की गई है। जिसका ऑडियो रिकॉर्ड भी है। इस सम्बंध में आज की जनधारा ने 28 अक्टुबर को प्रमुखता से समाचार प्रकाशित की थी। जिस पर जिले के डीएम रणबीर शर्मा ने संज्ञान में लेकर पीड़ित का बयान लेकर जांच के उपरांत  सूरजपुर एसडीएम पुष्पेंद्र शर्मा को कार्यवाही के आदेश दिए थे।  प्रशासन ने 29/10/ 2020 पटवारी रूकमणी शुक्ला को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। जिसमे पटवारी श्रीमती शुक्ला द्वारा स्पष्टी करण 2 नवम्बर को प्रस्तुत किया गया था। जवाब से संतुष्ट प्रद नही होने सुरजपुर एसडीएम ने 19 नवम्बर को निलंबित कर दिया गया है।