breaking news New

कोरोना के बढ़ते कहर से उड़े केंद्र के होश. मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला!

कोरोना के बढ़ते कहर से उड़े केंद्र के होश.  मोदी सरकार ने लिया बड़ा फैसला!

कोविड मामलों में वृद्धि के मद्देनजर केंद्र ने राज्यों, केंद्र शासित प्रदेश में टीमें भेज

नई दिल्ली 24फ़रवरी । कोरोनावायरस मामलों में वृद्धि के मद्देनजर केंद्र ने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में उच्च स्तरीय मल्टी-डिसिप्लिनरी टीमें भेजी हैं,जो कोविड-19 से प्रभावी ढंग से निपटने में इनकी मदद करेंगी।

तीन सदस्यीय मल्टी डिसिप्लिनरी टीमों का नेतृत्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी कर रहे हैं। ये टीम राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेश के प्रशासन के साथ मिलकर काम करेंगी और कोविड-19 मामलों की संख्या में हाल ही में वृद्धि के कारणों का पता लगाएंगी।वे ट्रांसमिशन चेन को तोड़ने के लिए आवश्यक कोविड-19 नियंत्रण उपायों के लिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ समन्वय भी करेंगे।राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों को संबंधित जिला अधिकारियों के साथ उभरती स्थिति की नियमित समीक्षा के लिए सलाह दी गई है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोविड प्रबंधन में अब तक जो कामयाबी मिली है उसे नहीं खोया जाए।केंद्र ने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब और केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को लिखा भी है, जहां दैनिक मामलों में वृद्धि देखने को मिल रही है।केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव द्वारा लिखे गए पत्र में, उन्होंने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, गुजरात, पंजाब और जम्मू-कश्मीर में ट्रांसमिशन चेन तोड़ने और आरटी-पीसीआर टेस्ट सुनिश्चित करने के लिए आक्रामक उपायों पर ध्यान केंद्रित करने पर जोर दिया है।इन राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को आरटी-पीसीआर और रैपिड एंटीजन टेस्ट को ढंग से बढ़ाने की सलाह दी गई है।देश में पिछले 24 घंटों में 13,742 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जो मंगलवार की तुलना में लगभग 3,158 ज्यादा है और कुल संख्या 1,10,30,176 तक हो चुकी है।नए मामलों में से कम से कम 86 प्रतिशत छह राज्यों महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, पंजाब, कर्नाटक और गुजरात से हैं।पांच राज्यों महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, तमिलनाडु और कर्नाटक में नई मौतों का 82 प्रतिशत हिस्सा है।