कोरोना वायरस के लक्षण गलत क्यों साबित हो रहे हैं?

कोरोना वायरस के लक्षण गलत क्यों साबित हो रहे हैं?

प्रदीप पाण्डेय 

कोरोना वायरस इटली और अमेरिका के बाद भारत में तेजी से पांव पसार रहा है। भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या 6,412 हो गई है जबकि मृतकों की संख्या 199 पहुंच गई है। कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसके कुछ लक्षण बताए थे जिनमें तेज बुखार, सूखी खांसी और गले में दर्द जैसे लक्षण शामिल थे, लेकिन जैसे-जैसे कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है, वैसे-वैसे ये लक्षण गलत साबित होते जा रहे हैं। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि कोरोना संक्रमण के कुछ ऐसे मामले भी सामने आए हैं जिनमें कोई लक्षण ही दिखाई नहीं दिए हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से...

1. हवा में नहीं फैलता कोरोना वायरस?

पहले कहा गया कि कोरोना वायरस हवा में नहीं फैलता है। ऐसे में स्वस्थ इंसान को मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। कई बड़े डॉक्टर्स ने मास्क ना पहनने की अपील की। भारत सराकार की ओर से भी कहा गया कि मास्क की जरूरत सभी को नहीं है, लेकिन अब कई देशों में मास्क पहनना अनिवार्य हो गया है। महाराष्ट्र में बिना मास्क बाहर निकलने पर गिरफ्तारी हो सकती है। दरअसल जब कोरोना से संक्रमित कोई शख्स खांसता है तो उसके मुंह से निकलने वाले कफ के छींटों से संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। तो अब सवाल यह है कि यदि हवा में कोरोना नहीं फैलता है तो मास्क पहनने की क्या जरूरत है?

2. कोरोना से बचने के लिए एक मीटर की दूरी है जरूरी

दावा था कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए एक मीटर की दूरी जरूरी है। कई दुकानों पर एक-एक मीटर की दूरी पर गोल घेरे बनाए गए, लेकिन बाद में एक रिसर्च में दावा किया गया कि आठ मीटर की दूरी से भी कोरोना वायरस फैल सकता है। भारत सरकार की आरोग्य सेतू एप में बताया गया है कि लोगों से छह मीटर की दूरी रखें। तो देखा जाए तो एक मीटर की दूरी वाला दावा भी गलत साबित हो रहा है।

3. ठंड वाले इलाकों में तेजी से फैलने का अनुमान?

नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर (NUS) ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि कोरोना सार्स महामारी जैसा ही है। रिसर्च के मुताबिक चीन और अमेरिका जैसे देशों में फ्लू दिसंबर में शुरू होता है और जनवरी या फरवरी में तेजी से फैलता है, लेकिन इसके बाद इसका असर कम होने लगता है। कोरोना के लक्षण भी सार्स और इन्फ्लूएंजा जैसे ही हैं, ऐसे में तापमान बढ़ने पर संक्रमण में कमी की उम्मीद की गई थी। शुरुआती दौर में कोरोना उन इलाकों में सबसे तेजी से फैला जहां मौसम ठंडा था, इसलिए माना गया कि मौसम गर्म होते ही इसका प्रकोप तेजी से खत्म हो सकता है, लेकिन इस पर कोई रिसर्च नहीं हुआ। अनुमान लगाया गया कि भारत में कोरोना का संक्रमण अधिक नहीं होगा, क्योंकि मार्च-अप्रैल में भारत में ठीक-ठाक गर्मी पड़ने लगती है, लेकिन ऐसे अनुमान अब गलत साबित होते दिख रहे हैं, क्योंकि महाराष्ट्र में दिल्ली के मुकाबले गर्मी अधिक ही पड़ती है लेकिन सबसे अधिक मामले महाराष्ट्र से ही सामने आ रहे हैं।

4. कोरोना से संक्रमित होने पर तेज बुखार के साथ सूखी खांसी, सांस लेने में दिक्कत और गले में दर्द?

संक्रमण की शुरुआत में यही बताया गया है कि सूखी खांसी, बुखार, सांस लेने में दिक्कत और गले में दर्द है तो आपको कोरोना हो सकता है, लेकिन कई ऐसे भी मामले सामने आए हैं जिनमें कोई लक्षण दिखाए ही नहीं दिए हैं। हाल ही में चीन में 47 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए, जिनमें इसके कोई लक्षण नहीं थे। इनमें से 14 विदेश से आए लोग हैं। इससे पहले भी चीन में 1,541 ऐसे मामले सामने आए थे जिनमें कोई लक्षण नहीं थे। प्रिंस चार्ल्स भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए लेकिन उनमें कोई लक्षण नहीं दिखा। वह पूरी तरह से स्वस्थ थे। संक्रमण की पुष्टि होने के ाद प्रिंस ने खुद को क्वारंटीन किया था, हालांकि अब वे ठीक हैं।

 ऐसे मामलों में बड़ा खतरा है यह कि संक्रमित व्यक्ति को संक्रमण के बारे में जानकारी हीं नहीं होती और जब तक पता चलता है तब तक कई लोगों में संक्रमण फैल चुका होता है। तो यहां यह भी साबित हो गया कि बिना लक्षण दिखे भी कोरोना संक्रमण हो सकता है। 

5. मजबूत इम्यूनिटी वालों को कोरोना से कम खतरा है

शुरुआत से हो लोगों को सलाह दी गई कि इम्यूनिटी बढ़ाने वाली चीजें खाएं। विटामिन सी का सेवन करें ताकि रोग प्रतिरोधकता में वृद्धि हो। अब यहां गौर करने वाली बात यह है जिनलोगों में लक्षण नहीं दिखे हैं लेकिन कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट पॉजिटिव है, उनकी इम्यूनिटी बढ़िया रही होगी तभी लक्षण दिखाए नहीं दिए। इसका मतलब यह है कि कोरोना का संक्रमण किसी में भी हो सकता है।

आपको क्या करना चाहिए?

यहां बहुत बड़ा सवाल यही है कि आपको क्या करना चाहिए तो आपके लिए यही बेहतर है कि आप अपने स्तर पर बचाव के जितने इंतजाम कर सकते हैं, वो कीजिए। सप्लाई वाला पानी इस्तेमाल करते हैं तो संभव हो सके तो उसे खौलाकर ठंडा करें उसके बाद ही पीने के लिए इस्तेमाल करें। किसी से मिलने की कोशिश ना करें। दोस्त, यार और अपार्टमेंट के लोगों से भी दूरी बनाकर रहें। कुछ भी खाने-पीने से पहले हाथ को साबुन से अच्छे तरीके से धोएं। लिफ्ट का प्रयोग ना ही करें तो बेहतर है लेकिन करना पड़ रहा तो लिफ्ट को बटन को ना छूएं। घर आने के बाद खुद को सैनटाइज करें। संभव हो तो पानी में डीटॉल मिलाकर स्नान कर लें। कोरोना से बचने का एक ही तरीका है और वह है बचाव....