breaking news New

पीएचई की लापरवाही से बर्बाद हो रहे हैं हजारों लीटर पानी, विभाग लगा है अपनी गलती छुपाने

पीएचई की लापरवाही से बर्बाद हो रहे हैं हजारों लीटर पानी, विभाग लगा है अपनी गलती छुपाने

राजनांदगांव, 20 मई। विकासखण्ड  डोंगरगांव शहर में जल आवर्धन योजना के तहत घर-घर पानी पहुंचाने के लिए पीएचई विभाग के द्वारा पाइपलाइन बिछाने का कार्य लापरवाही पूर्वक किया गया जिससे पाइप जगह-जगह फूट गए हैं और टेस्टिंग के नाम पर लगातार हजारों लीटर पानी इन लीकेज पाइप से बह रहा है।

बता दें कि नागरिकों की बहुप्रतीक्षित मांग को पूरा करते हुए जनप्रतिनिधियों के सहयोग से करोड़ों रुपए के जल आवर्धन योजना की स्वीकृति मिली और पूरा सिस्टम लगभग बनकर तैयार हो गया वही पीएचई विभाग की निष्क्रियता और लापरवाही के कारण आज तक शहर के घरों में फिल्टर पानी नहीं पहुंच पाया है वहीं दूसरी ओर दिन-ब-दिन टेस्टिंग के नाम पर पानी पाइप लाइन में भेजा जाता है जिससे टूटे-फूटे पाइपों से हजारों लीटर पानी बह जाता है।


नागरिकों को चिंता लेकिन विभाग को नहीं: वर्तमान में पानी को लेकर जहां जन जागरूकता फैलाई जा रही है और पानी का संयमित उपयोग की सलाह दी जा रही है ऐसे में स्वयं इस विभाग के जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी ही अपनी कर्तव्यहीनता का परिचय देते हुए पानी को बचा पाने में नाकाम दिख रहे हैं बेवजह बहते पानी को देखकर नगरवासी चिंतित है लेकिन इन सब से पीएचई विभाग को कोई लेना देना नहीं है।

विभाग को है जानकारी फिर भी उदासीनता : नगर के विभिन्न वार्डों में टूटे-फूटे पाइप लाइन से बहते पानी की शिकायत आम नागरिकों और जनप्रतिनिधियों सहित बुद्धिजीवी वर्ग ने विभाग के इंजीनियर विजय कुमार कनौजिया से की है बावजूद इसके इन टूटे पाइपलाइन को बनाने के लिए ना तो कोई अभियान चलाया गया है और ना ही इस मामले में कोई सक्रियता दिखाई गई है आश्चर्य की बात तो यह है कि विभाग के कर्मचारियों के पास बात की पूरी जानकारी है की पाइप लाइन कहां लेकर जाए कहां फूटा है और कहां इंड कैप की आवश्यकता है फिर भी विभाग इन हजारों लीटर बहते पानी को बचाने में असमर्थ है और ना ही पाइपलाइन की मरम्मत के लिए कोई रुचि दिखाई जा रही है।


वहीं इस मामले में पीएचई विभाग के इंजीनियर विजय कनोरिया से जानकारी लेने उनके मोबाइल नंबर 9827481305 मैं संपर्क करने का प्रयास किया गया किंतु उनके द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया।