breaking news New

सरकारी कार्यालयाें को निशाने पर लेने की सूचना के बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट

सरकारी कार्यालयाें को निशाने पर लेने की सूचना के बाद पुलिस प्रशासन अलर्ट

दंतेवाड़ा।  छत्तीसगढ़ के दंतवोड़ा जिले में एक सरकारी कार्यालय की रेकी करने पहुंचा पांच लाख रुपए का इनामी नक्सली पुलिस को चकमा देकर फरार होने में सफल रहा। उसके साथ आए एक सरपंच को हिरासत में लेकर पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव ने बताया कि कल यहां सरकारी कार्यालयों की रेकी करने के लिए पहुंचा पांच लाख रुपयों का इनामी नक्सली बुधरा भागने में सफल रहा। उसके साथ आए एक सरपंच से पूछताछ में कई अहम जानकारियां हाथ लगी हैं। इस घटना के बाद से यहां कलेक्ट्रेट की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। दफ्तर के भीतर जाने वालों की कड़ी जांच की जा रही है। परिसर में सुरक्षाकर्मी भी बढ़ा दिए गये है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार 'लोन वर्राटू अभियान' के तहत आत्मसर्मपण करने वाले नक्सलियों ने भी इस बात की पुष्टि की है। बस्तर में नक्सली अब तक पुलिस बल के जवानों और जनप्रतिनिधियों को ही निशाना बनाते रहे हैं। वर्ष 2011 में सुकमा कलेक्टर अलेक्स पाल मेनन के अपहरण की घटना को छोड़ दें, तो प्रशासनिक अफसरों पर हमले की कोई बड़ी घटना नहीं मिलती है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि करीब एक हप्ते पहले दंतेवाड़ा पुलिस को 'मोबाइल फोन सर्विलांस' से पता चला था कि नक्सली अफसरों को निशाने पर लेने की फिराक में है। इसके बाद पुलिस भी आवश्यक कदम उठा रही है।