breaking news New

जटिल प्रसव प्रकरणों की किलकारी को बचाने की दिशा में बढ़ते कदम

जटिल प्रसव प्रकरणों की किलकारी को बचाने की दिशा में बढ़ते कदम

 पंडरिया में सिजेरियन प्रसव की सेवा शुरू करने की तैयारी 

सीएमएचओ ने टीम के साथ किया निरीक्षण, बनाई कार्य योजना

सप्ताह में दो दिन स्त्री रोग विशेषज्ञ और निश्चेतना विशेषज्ञ देंगे सेवा

कबीरधाम। जिले के वनांचल क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं को सरलता से सुदृढ करने का प्रयास किया जा रहा है। इसी कड़ी में बोड़ला और पंडरिया क्षेत्रों में स्वास्थ्य शिविर लगाकर स्वास्थ्य जांच, उपचार व आवश्यक फूड सप्लीमेंट्स का वितरण कराया गया। इसके बाद अब पंडरिया के एमसीएच में सिजेरियन प्रसव की सेवा शुरू करने की तैयारी की जा रही है। 

इससे पूर्व राज्य शासन की मंशा के अनुरूप जटिल प्रसव को रेफर करने के बजाय जिला अस्पताल स्तर पर कराए जाने का प्रयास सफल रहा है, अब इसे विकासखंड स्तर पर पहुचाने की तैयारी है। 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. शैलेन्द्र कुमार मण्डल ने अपनी टीम के साथ स्वास्थ्य से संबंधित सेवा-सुविधा व्यवस्था का निरीक्षण किया तथा आपरेशन थिएटर (ओटी) की व्यवस्था का जायजा लिया है। उन्होंने आवश्यक सभी औपचारिकताओं को जल्द पूरा करने का निर्देश पंडरिया बीएमओ डॉ. राज को दिया है।

निरीक्षण के दौरान डॉ. मण्डल ने राष्ट्रीय कार्यक्रमों की जानकारी ली व परिवार नियोजन के लिए टीटी के साथ ही पुरुष नसबंदी के प्रति लोगों को जागरूक करने के निर्देश दिए। भौतिक संसाधनों की उपलब्धता व रख-रखाव के सम्बंध में भी जानकारी ली।

 निरीक्षण दौरे में डॉ. मण्डल की टीम में पंडरिया बीएमओ डॉ. बीएल राज, कवर्धा बीएमओ डॉ. सतीश चन्द्रवंशी, जिला स्तर से चिकित्सा अधिकारी डॉ. हिना अहमद, डीपीएम सृष्टि मिश्रा, शिशु स्वास्थ्य जिला सलाहकार अनुपम शर्मा, धनंजय देवांगन, पंडरिया के बीपीएम प्रदीप सिंह ठाकुर व लोहारा बीपीएम संगीता भगत शामिल रहे।

इस संबंध में डा. मंडल ने बताया, जिले में संस्थागत प्रसव बढ़ाने व जच्चा-बच्चा को सेहतमंद रखने के लिए हर संभव प्रयास जारी है। सभी विकासखण्ड के बीएमओ, बीपीएम व बीपीएम को समय पर डेटा एंट्री, रिपोर्टिंग व स्टाफ की उपस्थिति की विशेष निगरानी करने को कहा गया है, ताकि अस्पताल की व्यवस्था और सुदृढ़ की जा सके। साथ ही पंडरिया में सिजेरियन प्रसव की सेवा शुरू करने की तैयारी की जा रही है। 

पंडरिया में सप्ताह में दो दिन स्त्री रोग विशेषज्ञ और निश्चेतना विशेषज्ञ अनिवार्य रूप से सेवा देंगे। उन्होंने बताया, स्वास्थ्य सेवा के क्रम में अच्छी पहल यह भी है कि पंडरिया में सिजेरियन प्रसव की सेवा शुरू करने के अलावा जिला अस्पताल के भी मरीजों की सुविधाओं में लगातार बढ़ोतरी की जा रही है, जिसके परिणाम स्वरूप मरीज या परिजन को मानसिक परेशानी देने वाली इलाज के लिए लाखों रुपये खर्च करने जैसी विवशता खत्म हो गई है।

 जिला अस्पताल में जरुरतमंद मरीजों को अब मुफ्त वेंटिलेटर सेवा का भी लाभ मिलने लगा है।