breaking news New

बड़ी खबर : मकानों के छत पर चढ़कर ग्रामीणों ने हाथियों से बचाई जान

बड़ी खबर : मकानों के छत पर चढ़कर ग्रामीणों ने हाथियों से बचाई जान

कोरबा। हाथी समस्या कटघोरा वनमंडल का पीछा ही नहीं छोड़ रहा है। यहां के केंदई व पसान रेंज में बड़ी संख्या में मौजूद हाथियों ने बीती रात खड़पड़ीपारा व गाड़ागोड़ा में भारी उत्पात मचाते हुए ग्रामीणों के खेतों व बाड़ी में लगे मक्का व धान की फसलों को रौंद दिया। खड़पड़ीपारा में 28 हाथियों का दल विचरणरत है, जबकि गाड़ागोड़ा में 7 हाथी मौजूद हैं। 28 हाथियों के दल ने उत्पात मचाते हुए केंदई रेंज के कोरबी सर्किल अंतर्गत खड़पड़ीपारा में बस्ती के निकट पहुंच गए तथा अलग-अलग गुटों में बंटकर ग्रामीणों के बाड़ी व घरों से लगे खेतों में प्रवेश कर गए और भारी उत्पात मचाने लगे। 

बड़ी संख्या में हाथियों के पहुंचने व उत्पात मचाए जाने से गांव में अफरा-तफरी मच गई। कई ग्रामीण मकानों की छत पर चढ़कर अपनी जान बचाई तो कई लोग कच्चे मकान की छानी में शरण लिये तथा कई ग्रामीणों ने सड़कों पर उजाले में खड़े होकर व अलाव जलाकर अपनी रक्षा किया। वन विभाग का अमला भी यहां हाथी मित्र दल के सदस्यों के साथ पहुंचे और रात भर गांव में मौजूद रहकर ग्रामीणों की सुरक्षा व हाथियों को खदेडऩे में लगे रहे। वन अमले द्वारा काफी मशक्कत किये जाने के बाद हाथियों ने जंगल का रूख किया। तब जाकर गांव वालों तथा वन अमले ने राहत की सांस ली। वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक वन कर्मियों द्वारा लगातार ग्रामीणों को क्षेत्र में मौजूद हाथियों को ना छेडऩे की सलाह दी जा रही है लेकिन ग्रामीण मान नहीं रही है और वे जंगल में मौजूद हाथियों को खदेडऩे की लगातार चेष्टा करते रहते हैं। कल शाम भी हाथियों को ग्रामीणों ने जंगल जाकर खदेडऩे की कोशिश की थी। खदेड़े जाने पर पहले तो हाथी आगे बढ़ गए लेकिन रात होते ही एकाएक वापस लौटे और बस्ती के निकट पहुंचकर अलग.अलग समूहों में बंटकर ग्रामीणों की बाड़ी व घरों से लगे हुए खेतों में पहुंच गए और चिंघाड़ लगाने के साथ ही उत्पात मचाने लगे। हाथियों के बाड़ी व खेतों में पहुंचने से ग्रामीणों में अफरा.तफरी मच गई। उधर 7 हाथी इस झुंड से अलग होकर पसान रेंज के गाड़ागोड़ा गांव पहुंच गए। अचानक पहुंचे हाथियों के इस दल ने भी गांव में रात भर भारी उत्पात मचाया। इस दौरान ग्रामीणों के खेतों व बाड़ी में लगे फसलों को हाथियों द्वारा रौंद दिया गया। हाथियों के गाड़ागोड़ा पहुंचने और उत्पात मचाए जाने की सूचना पर वन विभाग के अधिकारी व कर्मचारी तत्काल मौके पर पहुंचे और रात में ही हाथियों को खदेडऩे की कार्यवाही की। खदेड़े जाने पर हाथियों ने जंगल का रूख किया।