breaking news New

कोरोना को लेकर PM ने व्यक्त की चिंता, गांवों को बचाना जरूरी, टेस्टिंग क्षमता बढ़ाएं, लापरवाही से दिख सकता है देशव्यापी असर

कोरोना को लेकर PM ने व्यक्त की चिंता, गांवों को बचाना जरूरी, टेस्टिंग क्षमता बढ़ाएं, लापरवाही से दिख सकता है देशव्यापी असर

 नईदिल्ली। बुधवार को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों और प्रतिनिधियों के साथ कोरोना के बढ़ते संकट को लेकर मीटिंग की. प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों को निर्देश दिया है कि एक बार फिर टेस्टिंग, ट्रैकिंग और ट्रीटमेंट पर जोर देने की जरूरत है. महाराष्ट्र, पंजाब, केरल, जैसे राज्यों में बढ़ रहे मामलों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता व्यक्त की है.

उन्होंने कहा कि कोरोना की कई लहर सामने आई हैं. हमारे यहां भी कुछ राज्यों में अचानक से केस बढ़ने लगे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि महाराष्ट्र-मध्य प्रदेश जैसे देशों में पॉजिटिव रेट काफी बढ़ा है. कोरोना को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैठक में कहा कि दुनिया में कई कोरोना प्रभावित देश ऐसे हैं, जहां पीएम मोदी ने कहा कि अगर कोरोना की इस वेव को यहीं नहीं रोका गया तो देशव्यापी असर देखने को मिल सकता है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि जनता को पैनिक मोड में नहीं लाना है, भय का माहौल नहीं बनाना है. हमें जनता को परेशानी से मुक्ति दिलानी है और पुराने अनुभवों को फिर से इस्तेमाल में लाना होगा.

प्रधानमंत्री मीटिंग में कहा कि गांवों को बचाना जरूरी  ‘टेस्टिंग की क्षमता बढ़ाएं,
 पीएम मोदी ने कहा कि टेस्ट-ट्रैक और ट्रीट को फिर से गंभीरता से लेना होगा. टेस्टिंग को बढ़ाना होगा, RT-PCR टेस्ट की संख्या 70 फीसदी से ऊपर लानी होगी. केरल-यूपी-छत्तीसगढ़ में रैपिड टेस्टिंग ही की जा रही है, जो चिंता का विषय है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले कि अब टियर 2 और टियर 3 शहरों में कोरोना के केस बढ़ रहे हैं, अगर इन्हें नहीं रोका तो गांवों में मामले बढ़ सकते हैं और फिर कोरोना को संभाल पाना मुश्किल होगा.