breaking news New

भाजपा के पूर्व विधायक बाफना ने राज्यपाल के नाम लिखा पत्र

भाजपा के पूर्व विधायक बाफना ने राज्यपाल के नाम लिखा पत्र

बस्तर जिले में महिलाओं में एनीमिया एवं बच्चो में कुपोषण को कम करने राज्य शासन को निर्देशित करने का किया आग्रह


जगदलपुर,1 नवम्बर। भाजपा के पूर्व विधायक बाफना ने राज्यपाल के नाम लिखा पत्र, बस्तर जिले में महिलाओं में एनीमिया एवं बच्चो में कुपोषण को कम करने राज्य शासन को निर्देशित करने का किया आग्रह। श्री बाफना ने अपने पत्र में कहा है कि आदिवासी बहुल बस्तर जिले में लगभग 78 प्रतिशत महिलाएं (15 से 49 साल आयु वर्ग) एनीमिया बीमारी से जुझ रही हैं। और इसी तरह आंगनबाड़ी के 5 साल आयु वर्ग तक के करीब 34 प्रतिशत बच्चे कुपोषण से ग्रस्त हैं। जिले में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा केन्द्र सरकार के वित्तीय सहयोग मार्गदर्शन में विभिन्न सेवाएं, योजनाएं एवं कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है, किन्तु अव्यवस्थित व्यवस्था, योजनाओं के क्रियान्वयन में लापरवाही तथा आर्थिक अनियमितताओं के कारण हितग्राहियों तक विभागीय सेवाओं का लाभ उचित तरीके से नहीं पहुॅच पा रहा है बल्कि जिले में मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान भी दम तोड़ चुका है।

कोविड 19 आपदा महामारी के मौजूदा दौर में पिछले 5-6 महिनों से हितग्राहियों को प्रदाय किये जाने वाले गरम भोजन के लिए सामग्री, अण्डा, लड्डू वितरण करने वाली महिला स्वः सहायता समूहों को राशि का भुगतान तक नहीं किया गया है, इसके कारण महिला स्वः सहायता समूह भी सामग्रियों के वितरण कार्य से दूर हो रहे हैं। आर्थिक संकट झेल रहे महिला स्वः सहायता समूहों की स्थिति खराब हो चुकी है, इनका लाखों रूपए का बकाया राशि विभाग द्वारा भुगतान नहीं किया जा रहा है। वर्तमान में स्थिति यह है कि, विभागीय अधिकारियों के द्वारा समूहों पर काम जारी रखने का दबाव तो बनाया जा रहा है पर साथ ही साथ भुगतान के लिए कमीशन मांगे जाने की शिकायतें भी सामने आई हैं।

उपरोक्त परिस्थितियों के मद्देनजर जिले में विभागीय सेवाओं, कार्यक्रमों और योजनाओं के क्रियान्वयन की लचर स्थिति दिनों-दिन बिगड़ती जा रही है और इसका सीधा असर बच्चों एवं महिलाओं के स्वास्थ्य एवं पोषण पर पड़ा है। जिसके कारण स्वास्थ्य एवं पोषण का स्तर और नीचे गिरने की संभावना से इंकार भी नहीं किया जा सकता। उल्लेखनीय है कि कोविड 19 आपदाकाल में यूनिसेफ और डब्ल्यूएचओ ने भी कुपोषण की दर बढ़ने की आशंका जताई है।

पूर्व भाजपा विधायक ने माननीया राज्यपाल महोदया जी से आग्रह करते हुए कहा है कि, बस्तर जिलें में महिलाओं एवं बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण की स्थिति में सुधार के लिए राज्य सरकार को विभागीय सेवाओं के क्रियान्वयन में कसावट लाने तथा विगत 5-6 माह से महिला स्वः सहायता समूहों को बकाया राशि के भुगतान के लिए निर्देशित करने की कृपा करें।